Sat Jul 26 2:05:17

पिछड़ा आयोग के सदस्य ने फैक्ट्री प्रबंधकों की ली बैठक

सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
पिछड़ा आयोग के सदस्य लक्ष्मी यादव ने सर्किट हाउस में जिले के अंदर सभी फैक्ट्रियों के प्रबंधकों की दोपहर दो बजे बैठक ली। इस बैठक के दौरान श्री यादव ने कंपनी प्रबंधकों को दो टूक शब्दों में कहा कि आये दिन मजदूर यह कहते फिरते हैं कि हमें सही समयपर मजदूरी नहीं मिल पाती ठेकेदार हमारी मजदूरी नहीं देता तमाम प्रकार की समस्यायें जिले के श्रमिकों के सामने आती है उसे तत्काल प्रभाव से दूर किया जाये।
चेक के जरिये करें भुगतान- श्री यादव ने कहा कि श्रमिकों का भुगतान सीधे बैंक एकाउन्ट से किया जाये। जिन श्रमिकों के खाते नहीं हैं, उनके खाते खुलवाये जायें और उनका समय पर भुगतान के साथ उनकी समस्या को तत्काल मौके पर ही हल किया जाना चाहिये। इतना ही नहीं उन्होंने जिले के बेरोजगारों को ज्यादा से ज्यादा दिये जाने की बात भी बैठक के दौरान कही। इसबैठक में सभी सीमेन्ट फैक्ट्री के अधिकारी गण मौजूद रहे।
------


 

भ्रष्ट निगमकर्मियों की निगाह में सिर्फ 16 जर्जर भवन

सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
शहर में स्थित लगभग आधा सैकड़ा की संख्या में मौजूद जर्जर भवन एक बड़े हादसे को इंतजार दे रहे हैं। मूसलाधार बारिश की वजह से ये जर्जर भवन कभी भी ढह सकते हैं। नगर निगम तथा जिला प्रशासन के अधिकारियों का गैर-जिम्मेदारानापन कहें या फिर कमाओ-खाओ का फंडा, इस मामले में ये अधिकारी अब्बल है। वर्तमान में शहर में स्थित जर्जर बिल्डिगों में से शहर में ननि अमले ने अब तक सिर्फ 16 बिल्डिंगों को चिन्हित किया है एवं भवन स्वामियों को नोटिस भेजी है। लेकिन नोटिस भेजने के एक माह बाद भी ननि अधिकारियों द्वारा कार्यवाही नहीं की गई। ननि अधिकारी पुलिस व प्रकाशन के असहयोग के चलते ऐसी कार्यवाही करने में स्वयं को लाचार समझ रहे हैं।
भवन स्वामियों ने खाली नहीं किये भवन
शहर के पन्नीलाल चौक, पुराना पावर हाउस, भैंसाखाना, गौशाला चौक एवं बजरहा टोला में स्थित 16 जर्जर भवनों को खाली करने के लिये ननि अमले ने नोटिस जारी की। लेकिन एक माह बीत जाने के बाद भी भवन स्वामियों ने भवन खाली नहीं किये। बल्कि उन भवनों में सीमेन्ट से लीपापोती करके उन्हें मजबूत बनाने का कार्य किया गया। ननि अमला इन भवनों को गिराने में नाकाम है। नगर निगम के अतिक्रमण दस्ते के एक अधिकारी ने यह तक कह दिया कि जब पुलिस व प्रशासन के सहयोग से हम अतिक्रमण नहीं हटा पाये तो फिर जर्जर भवनों को बिना प्रशासन व पुलिस के सहयोग से कैसे गिरा सकेंगे। वहीं शहर के जर्जर भवन एक बड़े हादसे को निमंत्रण दे रहे हैं।
आखिर कब गिरेंगे जर्जर भवन
नगर निगम अमले द्वारा प्रत्येक वर्ष शहर के जर्जर भवनों को चिन्हित कर उन्हें गिराने के लिये नोटिस जारी किया जाता है। लेकिन ये भवन बारिश का मौसम समाप्त होने के बाद भी नहीं गिराये जाते। पहले तो जर्जर भवनों को खाली कराने में ही नगर निगम अमले की एक से दो माह गुजर जाते हैं और इसके बाद जब अमले द्वारा भवन खाली कराने पहुंचा जाता है तो उन्हें भवन स्वामियों के विरोध का सामना करना पड़ता है। जिसके बाद दो माह पुन: मिल जाते हैं और बारिश का चौमासा खतम हो जाता है। ऐसे में जिला प्रशासन एवं नगर निगम इन जर्जर भवनों को गिराने में असफल दिखाई देता है। इतना ही नहीं उन्हें अगले वर्ष का इंतजार करना पड़ता है कि कब चौमासा आये और वे पुन: नोटिस जारी करें।
इनका कहना है
च्नगर निगम अमले ने 16 जर्जर भवनों को चिन्हित किया है जिसके स्वामियों को नोटिस जारी की गयी है जल्द ही इन्हें गिराने का कार्य किया जायेगा। ज्
- रमाकांत शुक्ला
अतिक्रमण प्रभारी, ननि, सतना
------


 

गुप्ता डायग्नोस्टिक सेन्टर में स्वास्थ्य विभाग का छापा
सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
बढ़ते लिंगानुपात एवं कन्या भ्रूण की जांच तथा क्लीनिक में हो रहे अवार्सन को लेकर स्वास्थ्य विभाग सतर्क है और इसी उद्देश्य को लेकर प्रदेश भर में डायग्नोस्टिक सेन्टर एवं निजी क्लीनिकों में शिकायत मिलने पर छापामार कार्यवाही की जा रही है। इसी क्रम में मंगलवार को भोपाल की स्वास्थ्य विभाग टीम ने शहर के जगतदेव तालाब स्थित गुप्ता डायग्नोस्टिक सेन्टर में छापामार कार्यवाही की। टीम को भ्रूण जांच तथा फर्जी रूप से डायग्नोस्टिक सेन्टर चलाने की जानकारी प्राप्त हुई थी। लगभग दोपहर 12.30 बजे से जारी कार्यवाही शाम तक चलती रही। इस जांच टीम ने स्थानीय लोगों में सीएमएचओ डा. डीएन गौतम को शामिल किया गया है। गुप्ता डायग्नोस्टिक सेन्टर में सोनोग्राफी, अल्ट्रासाउंड, डिजीटल एक्सरे, मैट्रोपोलिस पैथालाजी मुंबई से जांच कराई जाती थी। इसके संचालक डा. एस.के. गुप्ता हैं। जिसमें रेडियोलाजिस्ट के रूप में डा. बी.डी. गुप्ता का नाम अंकित है। जांच टीम के एक सदस्य के मुताबिक गुप्ता डायग्नोस्टिक सेन्टर में भ्रूण जांच धड़ल्ले से की जाती थी। जो कि नियम विरुद्ध तथा अपराध है। बावजूद इसके गुप्ता डायग्नोस्टिक सेन्टर में भ्रूण जांच सोनोग्राफी के नाम पर की जाती थी। जिसकी शिकायत मिलने पर भोपाल से टीम सतना पहुंची है। शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है एवं रिकार्ड जांचे जा रहे हैं। समाचार लिखे जाने तक जांच कार्यवाही प्रारंभ रही।

आईजी ने देखी थानों की करतूत
सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
कानून व्यवस्था के हालात को जानने तथा सतना पुलिस की सक्रियता की स्थिति को लेकर रीवा रेंज के आईजी पवन श्रीवास्तव मंगलवार को सतना पहुंचे। यहां आईजी ने श्री श्रीवास्तव ने सीएसपी आफिस पहुंच शहर के तीनों थानों सिटी कोतवाली, कोलगवां एवं सिविल लाइन थाना के रिकार्ड बुलवाये और उनके रिकार्डों को खगालना प्रारंभ कर दिया। इस दौरान आईजी श्रीवास्तव तल्ख तेवर में दिखे। थानों में बढ़ते अपराध, पंजीबद्ध अपराधों के निराकरण में देरी, पुलिस जवानों की सतर्कता एवं सक्रियता, सूचना तंत्र की मजबूती तथा किसी भी संगीन अपराध की गहनता से विवेचना आदि प्रमुख बिन्दुओं को लेकर श्री श्रीवास्तव ने एसएसपी केसी जैन, एएसपी प्रदीप शेण्डे तथा सीएसपी सीताराम यादव को निर्देश दिये। उन्होंने बढ़ते अपराधों को लेकर चिन्ता जताई तो वहीं संगीन अपराधों की विवेचना एवं संवेदनशील मुद्दों को लेकर आयोजित पुलिस अधिकारियों की कार्यशाला में उन्हें सुझाव भी दिये। आईजी पवन श्रीवास्तव ने जिले के पुलिस अधिकारियों को लेकर अपराध कम करने और अपराधियों के बुलंद हौसलों को पस्त कर उन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के लिये आदेशित किया है। साथ ही श्री श्रीवास्तव ने आने वाले दिनों में बड़े त्यौहारों पर कानून व्यवस्था बनाये रखने एवं यातायात व्यवस्थित करने के लिये भी निर्देशित किये हैं।
-------
जेटली ने दिया करारा जवाब, ना सिर झुका हैए ना कभी झुकने देंगे
नई दिल्ली। पाकिस्तान के सीजफायर तोडऩे पर मंगलवार को रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में कहा कि हमारा सिर ना कभी झुका है और ना हम इसे कभी झुकने देंगे। उन्होंने यह स्वीकार किया कि सीमा पर पहले के मुकाबले घुसपैठ की कोशिशों में इजाफा हुआ है। गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से पाकिस्तान अपने नापाक इरादे से बाज नहीं आ रहा है। इस कारण सीमांत क्षेत्रों में भारी दहशत है। पाक की ओर से भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिशों में इजाफा हो रही है। साथ हीए पाक की ओर से कई बार गोलाबारी भी हो चुकी है।
मोदी के चलते भारतीय नौका लौटाने को पाक हुआ राजी
नई दिल्ली। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ही पहल का नतीजा है कि पाकिस्तान से भारतीय मछुआरों की जब्त नौकाओं को लौटाने का मार्ग प्रशस्त हुआ। वहां से मई में रिहा हुए 150 से अधिक मछुआरों की 57 नौकाएं सितंबर में मरम्मत कर लौटा दी जाएंगी। मछुआरों की नावों की वापसी का मुआयना करने गुजरात से गई विशेष टीम के दौरे के बाद पाक इनकी मरम्मत कर वापस देने को राजी हो गया है। नावों को वापस लेने से पहले इनके आकलन को मछुआरा समुदाय का दल अगस्त में फिर पाक जाएगा। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिकए मछुआरों के मुद्दे पर मोदी के विशेष ध्यान देने के बाद गुजरात की मुख्यमंत्री सक्रिय हुईं। उन्होंने इस कड़ी में बीते दिनों एक दल पाक भेजा था। गुजरात से गए इस नौ सदस्यीय दल ने 18.20 जुलाई के बीच पाक समुद्री निगरानी एजेंसी द्वारा पकड़ी गई नावों का निरीक्षण किया। महत्वपूर्ण है कि मई में भारतीय प्रधानमंत्री के शपथ समारोह में आने से पहले पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने दोस्ती का अंदाज दिखाते हुए 157 भारतीय मछुआरों की रिहाई के आदेश दिए थे। हालांकि मछुआरे तो छोड़ दिए गएए लेकिन उनकी नौकाएं पाक के ही कब्जे में थी। यह पहला मौका होगाए जब पाक समुद्री निगरानी एजेंसी भारतीय मछुआरों की रिहाई के बाद उनकी नौकाएं भी उन्हें लौटाएगी। पाक विदेश विभाग के मुताबिकए नवाज शरीफ सरकार ने भारतीय मछुआरों को रिहा करने के बाद उनकी 57 नौकाओं को भी छोडऩे का फैसला लिया। इस कड़ी में भारत से मुआयने को आए दल से बातचीत के बाद नौकाओं को मरम्मत कर लौटाने का फैसला लिया गया। पाकिस्तानी अधिकारियों के मुताबिकए मरम्मत में करीब एक माह का समय लगेगा। नावों की स्थिति के बारे में आश्वस्त होने के लिए भारतीय मछुआरों का दल अगस्त में फिर पाक जाएगा। पाक अधिकारियों के मुताबिकए शरीफ के आदेश के बाद ताबड़तोड़ हुए प्रयासों के तहत भारतीय मछुआरों की नौकाएं उनके मालिकों को लौटाने का फैसला लिया गया। इसी कड़ी में उनकी पहचान करने को भारतीय दल को बुलाया गया था। गौरतलब है कि गुजरात के मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री पद तक पहुंचे मोदी तटीय इलाके के मछुआरों की दिक्कतों को अच्छी तरह समझते हैं। लिहाजा सत्ता संभालने के बाद शरीफ के साथ बातचीत में भी उन्होंने मछुआरों की समस्या का विशेष तौर पर उल्लेख करते हुए इसके समाधान की माकूल व्यवस्था बनाने पर जोर दिया था। दोनों देशों के बीच खासतौर पर सरक्रीक क्षेत्र में समुद्री सीमा तय न होने के कारण कई बार दोनों ओर से मछुआरे एक.दूसरे के इलाकों में चले जाते हैंए जहां सुरक्षा एजेंसियां उन्हें पकड़ लेती हैं। इस समस्या के कारण दोनों तरफ के मछुआरों को अवैध तरीके से सीमा में प्रवेश के जुर्म में सजा भी काटनी पड़ती है।
काटजू का नया वार, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश से पूछे ये 6 सवाल
नई दिल्ली। न्यायपालिका में राजनीतिक हस्तक्षेप और मद्रास हाई कोर्ट में कथित तौर पर एक भ्रष्ट जज को नियुक्त किए जाने तथा इसके खुलासे के समय को लेकर विवादों में आए पूर्व जज मार्कडेय काटजू अब पूरी तरह से इस मामले को आगे भी जारी रखने को तैयार हैं। उन्होंने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश आरसी लाहोटी से छह सवाल किए हैं। गौरतलब है कि अपने ब्लॉग सत्यम ब्रूयात में काटजू मद्रास हाई कोर्ट में कथित तौर पर एक भ्रष्ट जज को नियुक्त किए जाने की कहानी बयान कर सनसनी फैलाने वाले फिर से खबरों में आ गए हैं। उधरए भाजपा की ओर से मांग की गई है कि इस मामले में मनमोहन सिंह को जवाब देना चाहिए। उल्लेखनीय है कि फरवरी 2012 से ब्लॅाग लिख रहे सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश और प्रेस परिषद के अध्यक्ष काटजू पहले भी खबरों का हिस्सा बनने वाला लेखन कर चुके हैंए लेकिन इस बार उन्होंने न्यायपालिका के साथ.साथ राजनीति में भी भूचाल ला दिया है। ब्लॉग लिखकर धमाका करने के बाद काटजू ने विभिन्न चैनलों से बातचीत में न केवल अपने आरोपों को दोहरायाए बल्कि उन्हें और धार भी दी।
काटजू द्वारा पूछे गए सवाल इस प्रकार हैं
१- क्या यह सच नहीं है कि मैनें सबसे पहले चेन्नई से भ्रष्टाचार के एक गंभीर मामले में मद्रास हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के खिलाफ जस्टिस लाहोटी को पत्र लिखा था।
२- क्या यह सच नहीं है कि जस्टिस आरसी लाहोटी ने मेरे आग्रह पर गुप्त आइबी जांच की सिफारिश उस जज के खिलाफ की थी।
३- क्या यह सच नहीं है कि कुछ समय बाद मैं दिल्ली में उनसे मिला और चेन्नई वापस लौट गया।
४-क्या यह सच नहीं है कि जब जस्टिस लाहोटी सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे तो उन्हें उस जज के खिलाफ आइबी की प्रतिकूल रिपोर्ट मिली।
५- क्या यह सच नहीं है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित तीन जजों के जांच पैनल में जस्टिस आरसी लाहोटी शामिल थे।
६- अगर सही मायने में आइबी ने अपनी रिपोर्ट में उक्त जज के खिलाफ आरोप को सही ठहराया था तो जस्टिस लाहोटी ने क्यों भारत सरकार को एक साल का अतिरिक्त समय देने की उन्हें देने की सिफारिश की।
पत्नी-बेटी का कातिल है नितिन, कार में मिली जली लाश पर संशय कायम!
नोएडा। सेक्टर.120 स्थित प्रतीक लोरियल अपार्टमेंट में महिला आर्किटेक्ट पारुल व उसकी बेटी आयुषी की हत्या नितिन ने ही की थी! अभी तक की जांच में सामने आए सुबूत यही इशारा कर रहे हैं। अपार्टमेंट के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज व नितिन के मोबाइल फोन की लोकेशन से पता चला है कि हत्या के समय वह फ्लैट में ही था। 16 जुलाई की शाम से लेकर 19 जुलाई सुबह तक नितिन अपने फ्लैट से बाहर नहीं निकला था। उधरए पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि पारुल व उसकी बेटी की हत्या 16.17 जुलाई को ही कर दी गई थी। गौरतलब है कि परिजनों की सूचना पर पुलिस ने पारुल व आयुशी के शव उनके फ्लैट से बरामद किए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि पारुल की हत्या गला दबाकर की गईए जबकि आयुशी की मौत भी सांस रुकने की वजह से हुई थी। डाक्टरों का मानना है कि आयुशी की नाक व मुंह बंद करके सांस रोकी गई है। इससे पहले पुलिस मान रही थी कि पारुल की हत्या चाकू से हमला करके की गई है। मौके पर मिला चाकू व फर्श पर मिले खून के धब्बे भी कुछ इसी ओर इशारा कर रहे थे। लेकिन अब डॉक्टरों का कहना है कि पारुल की कलाई पर चाकू का वार किया गया था। उसके हाथ की नस काटने की कोशिश की गई है। उधरए मामले की जांच कर रही कोतवाली सेक्टर 58 पुलिस ने इस संबंध में अपार्टमेंट के सिक्योरिटी गार्ड व अन्य लोगों के बयान भी दर्ज किए हैं। नितिन की कंपनी के लोग भी इनमें शामिल हैं। जांच में सामने आया है कि 19 जुलाई की सुबह फ्लैट से निकलने के बाद नितिन शाम को फिर वापस फ्लैट में आ गया था। यहां से उसने अपने साले के पास फोन किया और बताया था कि उसका सब कुछ लुट चुका है। फोन करने के 12 मिनट बाद नितिन फिर फ्लैट से बाहर निकल गया था। उसी रात करीब साढ़े आठ बजे उसकी वैगन आर कार नोएडा एक्सप्रेस वे पर जली हुई हालत में मिली थी। कार में एक व्यक्ति भी जली हुई हालत में मृत मिला था। पुलिस के लिए अब यह मामला बेहद पेचीदा हो गया है। मां.बेटी की हत्या व कार में मिली लाश के पीछे कोई साजिश तो नहींए इसका पता लगाने में पुलिस टीम जुट गई है।
काबुल में तालिबानी हमलाए चार विदेशी नागरिकों की मौत
काबुल। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल स्थित आंतरिक मंत्रालय के दफ्तर पर मंगलवार को किए गए आत्मघाती हमले में चार विदेशी नागरिक मारे गएए जबकि छह अन्य घायल हो गए। हमलावर मोटरसाइकिल पर सवार होकर आया था। तालिबान ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। घटना की जानकारी देते हुए काबुल पुलिस प्रमुख जाहिर ने बताया कि जिस वक्त यह हमला किया गया उस वक्त सभी विदेशी नागरिक व्यायाम कर रहे थे। उन्होंने बताया कि शुरुआती रिपो?ट्र्स के अनुसार इस हमले में 4 विदेशी नागरिक मारे गए हैं। मारे गए नागरिक किस देश के हैं अभी इस बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है लेकिन जानकारों के अनुसार वे सभी सरकार के सलाहकार थे। गौरतलब है कि काबुल हवाई अड्डा नेटो सेनाओं के लिए एक अहम बेस है। इसी कारण तालिबान अक्सर हवाई अड्डे पर रॉकेट हमले करते रहे हैं।
कांग्रेस में मचा चौतरफा बवाल, डूबता जहाज् बनती जा रही पार्टी
नई दिल्ली। केंद्र की सत्ता जाते ही कांग्रेस में चौतरफा बवाल मचा हुआ है। इस तख्ता पलट का असर कांग्रेस शासित राज्यों में भी दिख रहा है। महाराष्ट्रए असमए और जम्मू.कश्मीर में कांग्रेस में ऐसी भगदड़ मची है जैसे 125 साल पुरानी पार्टी डूबता जहाज हो। महाराष्ट्र में नारायण राणे ने चह्वाण सरकार छोड़कर पार्टी को झटका दिया तो असम में शिक्षा मंत्री हेमंत बिश्व शर्मा भी बगावती तेवर अख्तियार किए हुए हैं। हरियाणा में भी बगावत की चिंगारियों को चौधरी बीरेंद्र सिंह हवा दिए हुए हैं। पश्चिम बंगाल में पहले ही कांग्रेस की हालत पतली थी। अब उसके तीन विधायकों ने तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम पार्टी को झटका दिया है। अनुशासन तार.तार होने के बाद कार्रवाई की बजाय हताश पार्टी ने कहाए राणे व हेमंत लालची हैं। इसी साल चुनाव वाले राच्य चाहे महाराष्ट्रए हरियाणा और जम्मू.कश्मीर हों या फिर असम और पश्चिम बंगाल जैसे राच्य। सभी जगहों पर नेतृत्व के खिलाफ मुखर असंतोष के स्वर बगावत में तब्दील होते जा रहे हैं। कांग्रेस भी औपचारिक रूप से मान चुकी है कि सबको एक साथ संभालना अब संभव नहीं है। महाराष्ट्र में दिग्गज नेता नारायण राणे ने श्हारी हुई पार्टीश् के साथ चुनाव में न जाने का एलान कर कांग्रेस से छुट्टी पा ली। माना जा रहा है कि वह भाजपा नेताओं से संपर्क में तो हैं ही और अपनी अलग पार्टी भी बना सकते हैं। इसी तरह असम सरकार में मंत्री हेमंत बिश्व शर्मा ने मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंक रखा है। उन्होंने राच्यपाल को 30 विधायकों की सूची भेजकर गोगोई को सीएम पद से हटाकर खुद का दावा पेश कर दिया है। हालांकि गोगोई के पीछे पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पूरी पार्टी खड़ी है। वहींए महाराष्ट्र में भी पृथ्वीराज चह्वाण को सीएम पद से हटाने से कांग्रेस ने इन्कार कर दिया है। दोनों मुख्यमंत्रियों को राहुल के वीटो के चलते ही अभयदान मिला। यही कारण है कि राणे व हेमंत का कांग्रेस से मोहभंग हो रहा है। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने दोनों राज्यों में बगावत को खारिज कर इसे कुछ नेताओं की सत्तालोलुपता का मामला बताया। सिंघवी ने कहाए सबको पता है कि चाहे असम में हेमंत हों या फिर महाराष्ट्र में राणेए दोनों की इच्छा सीएम पद की है। ऐसे में यह मुद्दों के आधार पर नहीं टूट रहे हैंए बल्कि पद के लालच का मामला है। कांग्रेस के लिए परेशानी हरियाणा ने भी पैदा कर रखी है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा से नाराज पार्टी के कद्दावर नेता चौधरी बीरेंद्र सिंह के तेवर लगातार कड़े होते जा रहे हैं। उन्होंने फिर दोहराया है कि वह हुड्डा के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ेंगे। उनका आरोप है कि हुड्डा के कार्यकाल में हरियाणा का विकास रोहतक के आस.पास तक सीमित हो गया है। ज्ञात होए चौधरी की भेंट 21 जून को भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष राजनाथ सिंह से भी हो चुकी है। जम्मू से पूर्व सांसद चौधरी लाल सिंह भी कांग्रेस से नाता तोड़ चुके हैं।
                 Image..                         Open a new window
Top News
 
सौर ऊर्जा में एमपी होगा नंबर 1 - शुक्ल
 
आईजी ने देखी थानों की करतूत
 
पिछड़ा आयोग के सदस्य ने फैक्ट्री प्रबंधकों की ली बैठक
 
संभाग से ख़बरें
Bhopal
117.204.192.137A531981405675345Sukl.jpgभोपाल। ऊर्जाए खनिज और जनसंपर्क मंत्री राजेंद्र शुक्ला ने कहा कि पिछले दस सालों में बिजली उत्पादन में 8 हजार 126 मेगावॉट की वृद्धि हुई है। वर्ष 2003 में मप्र म
Satna
117.204.192.137A15336Page 1 copy.jpgसतना। महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र सतना ने बताया कि मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना में वर्ष 2013.14 के बैंको द्वारा 31 मार्च 2014 तक स्वीकृत ऋण
Rewa
117.204.192.137A56991rewa.jpgरीवा । कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी पंचायत श्री एसण्एनण्रूपला की अध्यक्षता में स्टेंडिंग कमेटी की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में नगरीय निकाय एवं आगा
 
Jabalpur
117.204.192.137A81051jabalpur.JPGजबलपुर। कारगिल विजय दिवस 26 जुलाई के अवसर पर महिला सशक्तीकरण के तहत आओं कदम मिलाए के अंतर्गत मेगा मैराथन प्रतियोगिता एवं रन जबलपुर रनए तथा सांस्कृतिक का
Indore
117.204.192.137A98832indore.jpgइन्दौर। नगर की यातायात और परिवहन व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिये आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बस स्टैण्ड निगरानी समिति की बैठक सम्पन्न हुयी। बैठक में नि
Sagar
117.204.192.137A56608sagar.jpgसागर । राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिले में नगरीय निकायों के आम निर्वाचन 2014 के लिये फोटोयुक्त मतदाता सूचियां तैयार करने का कार्यक्रम जारी है।
खेल मनोरंजन फिल्म
ये हैं भारत की एतिहासिक लॉड्र्स फ तह से जुड़े कुछ दिलचस्प आंकड़े
आलिया को 11 साल की उम्र में हो गया था शाहिद कपूर से प्यार
सलमान खान की किक को देखना पड़ेगा महंगा
Photo Albums
NO Photo available in this Album!!
 
विज्ञापन
Market Watch
Hot Pictures of the Day
 
 Yes
 No
 Cannot say
 
News paper PDF