Sat Aug 30 9:41:07

कौन बनेगा करोड़पति ने इन्हें बनाया करोड़पति
लगातर आठ सालों से आम जनता को करोड़पति बनने के सपने दिखाने वाले और कुछ को वाकई धनवान बनाने वाले गेम शो ष्कौन बनेगा करोड़पतिष् फिर से एक बार छोटे पर्दे पर लोकप्रियता बटोर रहा है। कई जरूरतमंदों के सपने सच कर चुके इस गेम शो की इस बार टैगलाइन भी बहुत इमोशनल हैए जिसके अनुसार ष्यहां पैसे नहीं दिल भी जीते जाते हैंष्। इस शो के एंकर और बॉलिवुड के महानायक अमिताभ बच्चन दर्शकों को अपने साथ कुछ इस कदर जोड़ लेते हैं कि टीण्वी पर इस शो को देखने वाला व्यक्ति भी हॉट सीट पर बैठे व्यक्ति के जीतने की कामना करने लगता है। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि ये शो अब तक किस.किस को करोड़पति बना चुका है-
कौन बनेगा करोड़पतिष् गेम शो के पहले करोड़पति थे मुंबई के रहने वाले हर्षवर्धन नवाठे। आज भले ही जीतने वाली धनराशि 5 करोड़ तक पहुंच रही हो लेकिन उस समय इनाम1 करोड़ रुपए ही था।
कौन बनेगा करोड़पति जूनियर की भी शुरुआत की गई जिसमें 14 साल के रवि सैनी ने करोड़पति बनने का खिताब हासिल किया था।
जोड़ी स्पेशल राउंड में विजय राउल और उनकी धर्म पत्नी अरुंधति राउल ने एक करोड़ रुपए जीते थे।
कौन बनेगा करोड़पति के सीजन सेकेंड में मध्यप्रदेश निवासी ब्रजेश दुबे ने एक करोड़ रुपए जीते थे।
कौन बनेगा करोड़पति के चौथे सीजन में झारखंड निवासी राहत तस्लीम विजेता बनी थी।
मोतीहारीए बिहार के रहने वाले सुशील कुमार केबीसी के पांचवें सीजन के जिसकी ईनाम धनराशि 5 करोड़ रुपए थीए करोड़पति बने थे।
इसी संस्करण में बिहार के ही रहने वाले अनिल कुमार सिन्हा ने यह खिताब अपने नाम किया था।
वर्ष 2012 में कश्मीर निवासी मनोज कुमार रैना करोड़पति बने थे।
मुंबई निवासी सिमनीत कौर भी पांच करोड़ रुपए जीत चुकी हैं।
2013 में उदयपुर के रहने वाले चांद मोहम्मद रंगरेज एक करोड़ रुपए जीत चुके हैं।
इसी वर्ष उत्तर प्रदेश की रहने वाली फिरोज फातिमा ने एक करोड़ रुपए जीते थे।
...जब नम हो गइ मैरी कॉम की आंखें
मुंबई। प्रियंका चोपड़ा की फिल्म श्मैरी कॉमश् मेरे जीवन पर आधारित है। फिल्म मैं देख चुकी हूं। बहुत ही खुश और संतुष्ट हूं। इस फिल्म के प्रस्ताव से मैं चौंक गई थी। सपने में भी नहीं सोचा था कि कोई मेरे ऊपर फिल्म बना सकता है। पंाच बार विश्व चैंपियन होने के बाद भी इसका ख्याल नहीं आया था। उत्तरपूर्व के राज्यों में असमए मेघालय और नागालैंड जैसे बड़े राज्य हैं। वहां के बारे में भी कभी हिंदी फिल्म नहीं बनी। वहां के मशहूर व्यक्तियों पर भी ध्यान नहीं गया। फिर मैं अपने बारे में कैसे सोच सकती थी। अभी बहुत अच्छा लग रहा है। ओलंपिक के बाद मेरी पहचान बन गई थी। पत्र.पत्रिकाओं और टीवी पर मेरे बारे में लिखा और बताया जाने लगा था। श्मैरी कॉमश् फिल्म आने के बाद यह पहचान गहरी होगी। लोग मुझे मेरे परिवेश के साथ जान सकेंगे। दूर.दराज के इलाकों के लोगों को भी जानकारी मिलेगी। अभी सारे लोग फिल्में देखते हैं। एक अच्छी बात होगी कि इस फिल्म के जरिए आप सभी उत्तरपूर्व के एक राज्य की जिंदगी के बारे में जान पाएंगे। इस बात की खुशी है कि मैं इसका माध्यम बन सकी। मैं अपने उद्गार व्यक्त नहीं कर पा रही हूं। देश के अपरिचित हिस्से के बारे में सभी जान पाएंगे। यह फिल्म सिर्फ मेरे ऊपर नहीं है। यह उत्तरपूर्व की जिंदगी भी दिखाती है। जरुरत है कि उत्तरपूर्व को पहचान और उचित सम्मान मिले। इस फिल्म के बाद परसेप्शन बदलेगा। मेरा सुझाव इतना ही था कि थोड़ा लुक मिले और एक्टर की एथलीट बॉडी हो। उत्तरपूर्व के लोगों का स्ट्रांग और डिफरेंट लुक होता है। उसमें मुश्किल आई। प्रियंका चोपड़ा सही लगी हैं। स्क्रिप्ट लिखने में मेरी ज्यादा मदद नहीं ली गई। मैंने केवल फैक्ट्स जांच लिए थे। पूरी जिंदगी को फिल्म की स्क्रिप्ट में लाना संभव नहीं था। फिर भी मुख्य पड़ाव लिए गए हैं। विवादित मैच भी हैए लेकिन उस पर फोकस नहीं है। यह मेरे बॉक्सर होने के साथ उत्तरपूर्व की एक औरत की भी कहानी है। मांए पत्??नीए औरतए गृहिणी और बॉक्सरण्ण्मेरे सभी रूप इस फिल्म में दिखेंगे। मैं खुद को एक विनर मानती हूंएजिसने यहां तक पहुंचने में अनेक मुश्किलों का सामना किया। मेरे जीवन की कहानी परिवार और पति के सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती थी। शादी के बाद तो हर औरत के कॅरियर की समाप्ति हो जाती है। मेरे ऊपर भी दबाव थेए लेकिन पति और उनके परिवार ने फुल सपोर्ट किया। मेरे ससुर को मेरी उपलब्धियों से खुशी होती थी। फिल्म में समय अपने अतीत के हिस्सों को देख कर मैं दो बार रोई। सब कुछ आंखें के सामने आ गया कि कितनी मुश्किलें रही थीं। सभी कोशिश कर रहे हैं कि श्मैरी कॉमश् सिक्किम में रिलीज हो सके। उसका वहां प्रीमियर हो।
इमरान सहित पीटीआइ के सभी सांसदों का इस्तीफा
इस्लामाबाद। पाकिस्तान में प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर पद छोडऩे का दबाव बनाने के लिए मुख्य विपक्षी दल पाकिस्तान तहरीक.ए.इंसाफ ख्पीटीआइ, के अध्यक्ष इमरान खान समेत पार्टी के सभी सांसदों ने शुक्रवार को इस्तीफा दे दिया। इसके बाद इस पार्टी ने आश्चर्यजनक ढंग से फिर वार्ता की मेज पर लौटने का निर्णय लिया। शुक्रवार को नौंवे दिन भी सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी रहे। प्रदर्शनकारी नेता वार्ता से पहले नवाज शरीफ के इस्तीफे से कम पर राजी नहीं है। पहले दौर की वार्ता नाकाम रहने के बाद खान के नेतृत्ववाली पीटीआइ की कोर कमेटी ने बैठक कर वर्तमान संकट पर चर्चा की। बैठक के बाद पीटीआइ नेता शाह मुहम्मद कुरैशी ने कहा कि पीटीआइ वार्ता के लिए तैयार है। पीटीआइ नेता नइमुल हक को यह कहते हुए टीवी चैनलों में दिखाया गया कि यह संभव है कि जब तक चुनाव धांधली की जांच पूरी नहीं हो जाती प्रधानमंत्री शरीफ लंबी छुट्टी पर चले जाएं। पार्टी के वरिष्ठ नेता कुरैशी ने इमरान समेत नेशनल असेंबली के सचिव मुहम्मद रियाज को अपने सभी सदस्यों का इस्तीफा सौंप दिया उसके बाद यह बैठक हुई। हालांकि इस इस्तीफे से सरकार की स्थिरता पर कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि 342 सदस्यीय सदन में पीएमएल.एन के सदस्यों की संख्या 190 है। पीटीआइ नेता इमरान खान और पाकिस्तान अवामी तहरीक के नेता ताहिर उल कादरी ने बुधवार को पहले दौर की वार्ता नाकाम रहने पर सरकार से आगे की बातचीत रोक दी थी। क्रिकेटर से नेता बने इमरान अब भी इस मांग पर अड़े हैं कि शरीफ के इस्तीफा देने के बाद ही बातचीत होगी।

लालच देकर शारीरिक शोषण करता था आसाराम
अहमदाबादए ब्यूरो। आसाराम के खिलाफ सूरत की पूर्व साधिका द्वारा दर्ज करवाई गई शारीरिक शोषण की शिकायत के अंतर्गत राज्य सरकार ने गुजरात हाईकोर्ट में हलफनामा प्रस्तुत कर उसकी करतूतों का पर्दाफाश किया है। हलफनामे में दावा किया गया कि आसाराम आश्रम की महिलाओं से ओरल सेक्स करता था। वह किशोरियों को अच्छा वक्ता बनाने का लालच देकर शारीरिक शोषण करता था। जब वह खफा होताए तब गाली..गलौज कर जो हाथ में आया उसी से वार कर देता था। आसाराम ने गुजरात उच्च न्यायालय में जमानत याचिका प्रस्तुत की है। राज्य सरकार ने जमानत याचिका का विरोध कर चांदखेड़ा पुलिस द्वारा प्रस्तुत आरोपों व गवाहों के बयान पेश किए हैं। हलफनामे में बताया गया है कि सूरत की पीडि़त युवती केवल 16 वर्ष की थी। उसी समय उसे आश्रम में रहने के लिए चुना गया था। उसे एसएससी की परीक्षा में भी बैठने नहीं दिया गया था। उसके बाद उसे वक्ता बनाने का लालच देकर आश्रम में ही रहने के लिए मजबूर किया गया।
पहले अपनी पार्टी में जान फूंकें सोनिया - वेंकैया
मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर झूठे सपने दिखाकर जनता को भ्रमित करने के सोनिया गांधी के बयान पर भाजपा ने तीखा पलटवार किया है। केंद्रीय शहरी विकास और संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कांग्रेस अध्यक्ष को ऐसी टिप्पणी करने के बजाय अपनी पार्टी में जान फूंकने की नसीहत दी है। वेंकैया ने शुक्रवार को यहां कहाए श्वह ख्सोनिया, कहती हैं कि मोदी सरकार देश की जनता को झूठे सपने दिखाकर सत्ता में आई है। यह भारत की जनता का अपमान है। लोगों ने एक ऐसा नेता चुना हैए जिस पर उन्हें विश्वास है कि वह काम करेगा। हकीकत तो यह है कि कांग्रेस लोकसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त को पचा नहीं पा रही है। अपनी पार्टी में जान फूंकने के बजाय वे ख्कांग्रेस नेता, इस तरह की टिप्पणी कर रहे हैं।श् राजीव गांधी की 70वीं जयंती के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में सोनिया ने कहा था कि मोदी द्वारा दिखाए गए झूठे सपनों से जनता भ्रमित हो गई जिस वजह से लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार हुई। वेंकैया ने कहा कि हार से बौखलाई सोनिया ने हताशा में यह बयान दिया। वेंकैया ने पीएम की सभाओं में गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की हूटिंग को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। इस आधार पर हालांकि उन्होंने पीएम के कार्यक्रम के बहिष्कार को गलत ठहराया। प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम में हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की हूटिंग की गई थी। इसे देखते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चह्वाण ने नागपुर में आयोजित मोदी के कार्यक्रम से किनारा कर लिया था।
राज्यपाल कुरैशी का दावा गलत, नहीं मांगा इस्तीफा - राजनाथ
नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तराखंड के राज्यपाल अजीज कुरैशी के उस दावे को गलत बताया है जिसमें उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय के अधिकारी के जरिये उनसे पद छोडऩे के लिए कहा गया। इस मुद्दे पर पहली बार मुंह खोलते हुए राजनाथ ने कहाए उत्तराखंड के राज्यपाल को हटाने के लिए कोई प्रक्रिया नहीं शुरू की गई। वह राष्ट्रपति की इच्छा से संवैधानिक पद पर बने हुए हैं। अपने इसी दावे को लेकर उत्तराखंड के राज्यपाल कुरैशी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। इस पर कोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। गृहमंत्री ने कहा कि केंद्र जल्द ही इस मामले में उपयुक्त जवाब सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करेगा। उत्तर प्रदेश के बाढग़्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने के पश्चात लौट रहे राजनाथ सिंह ने कहाए अजीज कुरैशी को हटाए जाने के लिए कोई दबाव नहीं है। कुरैशी ने कहा था कि केंद्र सरकार के गृह सचिव अनिल गोस्वामी ने उनसे पद से इस्तीफा देने के लिए कहा था। ऐसा न करने पर उन्हें बर्खास्त करने की चेतावनी दी गई थी।
सौ दिन के हिसाब.किताब की तैयारी में केंद्र सरकार
नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यूं तो हर दूसरे.तीसरे महीने सरकार की समीक्षा की बजाय पूरे कार्यकाल का हिसाब.किताब देने के पक्षधर हैंए लेकिन तैयारी सरकार में सौ दिन पूरे होने की भी हो रही है। नीयत यह है कि जनता तक यह संदेश पहुंच जाए कि सरकार सही दिशा में जा रही है और हर वादे पर सुनवाई हो रही है। प्रधानमंत्री कार्यालय ;पीएमओद्ध के निर्देश पर सभी प्रमुख मंत्रालय इसका ब्योरा इक_ा करने में जुट गए हैं। नरेंद्र मोदी सरकार सौ दिन पूरे होने पर अपने कामकाज की एक फौरी रिपोर्ट कार्ड जनता को देना चाहती है। हालांकि इसमें मुख्य जोर उन मुद्दों पर रखे जाने की संभावना है जो सीधे जनता से जुड़े हैं। अलबत्ता आर्थिक विकास की रफ्तार को बढ़ाने की दिशा में मोदी के नेतृत्व वाली राजग सरकार ने अब तक जो कदम उठाए हैंए उन्हें भी पूरी प्रमुखता दिए जाने की उम्मीद है। सितंबर के पहले सप्ताह में सरकार सौ दिन पूरे होने पर अपने कामकाज का ब्योरा जनता के समक्ष पेश कर सकती है। सूत्रों के मुताबिकए प्रधानमंत्री कार्यालय ;पीएमओद्ध ने सभी मंत्रालयों से अपने अब तक के प्रमुख कामकाज का पूरा ब्यौरा तैयार करने को कहा है। खासतौर पर वाणिज्य और वित्त मंत्रालय से इस बाबत तैयारी करने को कहा गया है। माना जा रहा है कि पहली सितंबर को इस संबंध में विभिन्न मंत्रालय प्रधानमंत्री कार्यालय के समक्ष अपना अपना प्रेजेंटेशन देंगे। उसके बाद पीएमओ सभी मंत्रालयों से मिले ब्योरे के आधार पर पूरी सरकार के कामकाज की रिपोर्ट को तैयार करेगा। सूत्र बताते हैं कि अब तक सरकार ने क्या काम कियाए इसकी प्रभावी जानकारी जनता तक नहीं पहुंच पाई है। उदाहरण के तौर पर विश्व व्यापार संगठन में सरकार ने खाद्य सब्सिडी के मुद्दे पर जो स्टैंड लियाए वह जनता को किस तरह प्रभावित करता हैए इसके बारे में सरकार अपनी भावनाओं को जनता तक नहीं पहुंचा पाई है। डिजिटल इंडिया भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना हैए लेकिन प्रधानमंत्री कार्यालय इसके प्रचार प्रसार से संतुष्ट नहीं है। सौ दिनों का रिपोर्ट कार्ड हर उपलब्धि को जनता तक पहुंचाएगा। रिपोर्ट कार्ड में वैसे फैसले खासतौर पर शामिल होंगेए जो सीधे जनता से जुड़े हुए हैं। मंत्रालयों की तैयारी में वाणिज्य व वित्त मंत्रालय की भूमिका महत्वपूर्ण है। खासतौर पर डब्ल्यूटीओए बीमा में एफडीआइ की सीमा बढ़ाने के फायदे और महंगाई को रोकने के लिए उठाए कदमों को सरकार ज्यादा प्रभावी तरीके से बताने की तैयारी में है। प्याज की कीमतों को रोकने के लिए सरकार ने जो तत्परता दिखाईए उसके और उसकी वजह से प्याज की कीमतों को जहां का तहां रोक दिया गयाए इसके बारे में भी सरकार सौ दिन पूरा होने पर विस्तार से बता सकती है। काले धन को विदेश से वापस लाने के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के संतोष व्यक्त करने को भी सरकार अपनी कामयाबी मान रही है। पहली अंतरिम रिपोर्ट में सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि काले धन के बारे में कुछ प्रगति हुई है। सौ दिन के रिपोर्ट कार्ड में सरकार इसे भी बढ़ा.चढ़ा कर बता सकती है। भाजपा के चुनावी एजेंडे में यह मुद्दा काफी अहम रहा है। पार्टी ने इस मुद्दे पर पूर्व की संप्रग सरकार की कड़ी आलोचना की थी।
पाक की नापाक करतूत, रातभर की गोलीबारी, दो भारतीयों की मौत
जम्मू। पाकिस्तान की तरफ से सीमा पर अरनिया सेक्टर में रात से जारी फायरिंग में दो भारतीय नागरिकों की मौत गई जबकि एक बीएसएफ जवान समेत पांच लोग घायल हो गए। दोनों मृतक बाप और बेटे थे। घायलों को जम्मू मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया है। उधरए अरनिया के त्रेवा गांव में 5 घरों पर मोर्टार गिरने से काफी नुकसान हुआ है। वहींए जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर के चकला गांव में 60 मीटर लंबी सुरंग भी मिली है। ये सुरंग मुनव्वर नदी के किनारे इस गांव में मिली है। आशंका जताई जा रही है कि ये सुरंग आतंकियों ने पाक सेना की मदद से बनवाई गई है ताकि इस इलाके में आसानी से घुसपैठ कराई जा सके। सेना को इस सुंरग के बारे में पता चलाए उसके बाद स्थानीय पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है। पाकिस्तान की ओर से लगातार निशाना बनाए जाने से खौफजदा भारतीय सीमा पर बसे ग्रामीण अब अपने घरों को छोड़ शहरों की तरफ पलायन कर रहे हैं। आर एस पुरा सेक्टर के 6 के गांवों से नागरिकों का का पलायन शुरू हो गया है। प्रशासन ने नागरिकों के लिए आर एस पुरा के जिला हेडक्वॉर्टर में रुकने का इंतजाम किया है। ग्रामीण बहुत अधिक डरे हुए है। कुछ लोग तो अपने घरों को छोड़ अपने रिश्तेदारों के घर पनाह लेने को मजबूर है। ग्रामीणों का कहना है कि पाकिस्तान की ओर से फायरिंग की घटना रोजाना बढ़ती जा रही है और कोई भी यहां सुरक्षित नहीं नहीं है।
                 Image..                         Open a new window
Top News
 
बच्चे के एक हाथ का वजन है आठ किलो
 
आखिरकार फॉर्म में लौटे विराट, खेली धमाकेदार पारी
 
राज्यपाल कुरैशी का दावा गलत, नहीं मांगा इस्तीफा - राजनाथ
 
संभाग से ख़बरें
Bhopal
117.204.205.8A10932sucna.jpgभोपाल। सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री लालसिंह आर्य ने आज सुबह मंत्रालय का औचक निरीक्षण किया। कहने को तो यह औचक निरीक्षण था लेकिन मंत्री ने इसकी सूचना पहल
Satna
117.204.205.8A97199saski.jpgसतना।  कलेक्टर मोहनलाल और सीण्ईण्ओण् जिला पंचायत अभिजीत अग्रवाल ने अपने मझगवां भ्रमण के दौरान रास्ते में पडने वाले शासकीय उचित मूल्य दुकानो का आकस्म
Rewa
117.204.205.8A62854DSC_3470.jpgरीवा । स्व.कुशाभाऊ ठाकरे व्याख्यानमाला कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में शामिल होने के लिये रीवा आगमन पर लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन का स
 
Jabalpur
117.204.204.137A93183jaban 24-8-2014 b .jgp.jpgजबलपुर ।  जिले के प्रभारी एवं प्रदेश किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय में गेहूं और जौ अनुस
Indore
117.204.204.137A47088ind 24-8-2014 b .jgp.jpgइन्दौर । देवी अहिल्या समारोह समिति के तत्वावधान में आज 219 वें देवी अहिल्या पुण्य स्मृति समारोह का आयोजन किया गया।  गांधी हाल में आयोजित इस समारोह को संब
Sagar
117.204.204.137A90137sgara 24-8-2104 b .jgp.jpgसागर । प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने आज रजाखेड़ी मकरोनिया व गम्भीरिया उप नगरीय क्षेत्र में 2 करोड़ 10 लाख 57 हजार रूपये लाग
खेल मनोरंजन फिल्म
आखिरकार फॉर्म में लौटे विराट, खेली धमाकेदार पारी
बच्चे के एक हाथ का वजन है आठ किलो
माधुरी से कुछ इस अंदाज में मिलीं प्रियंका चोपड़ा
Photo Albums
NO Photo available in this Album!!
 
विज्ञापन
Market Watch
Hot Pictures of the Day
 
 Yes
 No
 Cannot say
 
News paper PDF