Tue Mar 31 23:34:14

दर्जन भर लालबत्ती के लिए सिफारिशों पर फैसला जल्द

भोपाल (मारुति एक्सप्रेस)।
भाजपा की नई टीम के गठन के बाद अब प्रदेश में लालबत्ती बंटने का दौर शुरू होने वाला है। निगम-मंडलों में संगठन इसी माह नियुक्तियों की सिफारिश कर चुका है। माना जा रहा है कि भाजपा की बेंगलुरु में होने वाली राष्ट:ीय कार्यसमिति की बैठक के बाद प्रदेश के करीब एक दर्जन नेताओं की निगम-मंडल और प्राधिकरणों में ताजपोशी कर दी जाएगी। गौरतलब है कि पिछले एक साल से  चुनावों में पूरा संगठन व्यस्त था। यही वजह रही कि प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान को अपनी नई टीम बनाने में सात माह का वक्त लग गया। अब निगम-मंडलों में भी नियुक्तियों को लेकर संगठन गंभीरता से विचार कर रहा है। इसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे से भी नंदकुमार सिंह चौहान और प्रदेश संगठन महामंत्री अरविंद मेनन की एक दौर की चर्चा हो चुकी है। संगठन सूत्रों के मुताबिक करीब बीस नेताओं की सूची भी तैयार कर ली गई है। भाजपा की राष्ट:ीय कार्यकारिणी की बैठक तीन और चार अप्रैल को बेंगलुरु में होना है। इस बैठक में सीएम, प्रदेशाध्यक्ष और संगठन महामंत्री भी मौजूद रहेंगे। बैठक  के बाद तीनों नेताओं की राष्ट:ीय अध्यक्ष से चर्चा में नियुक्तियों की औपचारिक अनुमति ले ली जाएगी। संगठन के एक बडे नेता ने प्रदेश टुडे को बताया कि पांच अप्रैल के बाद कभी भी निर्णया हो सकता है।
प्रदेश कार्यसमिति में फैसले की उम्मीद
भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में इस मसले पर चर्चा होनी है। प्रदेश कार्यसमिति की बैठक अप्रैल के दूसरे हफ्ते में भोपाल में हो रही है, इसमें आगामी तीन महीने के कार्यक्रम व राष्ट:ीय कार्यसमिति की बैठक में तय किए गए एजेंडे के पालन पर भी विचार किया जाएगा। इस दौरान प्रदेश के कोर ग्रुप के सामने संगठन निगम-मंडल के लिये तय नामों पर विचार रखेगा। बैठक की तारीख तय करने आज प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और संगठन महामंत्री अरविंद मेनन के बीच चर्चा होनी है।
इनके नामों पर हो रहा विचार
निगम-मंडलों और प्राधिकरणों में फिलवक्त जिन नेताओं के नामों पर विचार हो रहा है, उनमें प्रदेश प्रवक्ता विजेन्द्र सिंह सिसौदिया, रामकिशन चौहान, गुरू प्रसाद शर्मा, प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉक्टर हितेष बाजपेई, बीडीए के पूर्व अध्यक्ष उमेश शुक्ला, अखंड प्रताप सिंह, अशोक अर्गल, मुकेश टंडन, शिव चौबे, भानू राणा के नाम प्रमुख तौर पर शामिल बताए जा रहे हैंं।
बीडीए अध्यक्ष की दौड़ में सबनानी
भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष को लेकर भगवान दास सबनानी के नाम की चर्चा है। इस पद के लिये रमेश शर्मा गुट्टू भैया और सत्यार्थ अग्रवाल भी सक्रिय बताए जा रहे हैं। वहीं ग्वालियर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष के लिये जय सिंह कुशवाह और वेदप्रकाश शर्मा के नाम की चर्चा है।
निगम मंडलों में नियुक्ति के लिये संगठन मुख्यमंत्री से आग्रह करेगा। निगम-मंडलों में किसे नियुक्त करना है यह पूरी तरह मुख्यमंत्री के अधिकार क्षेत्र का मामला है। संगठन मांगने पर अपनी ओर से सुझाव देगा।
ल्ल नंदकुमार सिंह चौहान, प्रदेशाध्यक्ष, भाजपा
मेयर आलोक ने रिजेक्ट किए टैक्स प्रपोजल, नया कर नहीं

भोपाल (मारुति एक्सप्रेस)।
नगर निगम परिषद कल मंगलवार को अपना बजट प्रस्तुत करेगी। महापौर आलोक शर्मा के कार्यकाल का यह पहला बजट है। सूत्रों के अनुसार निगम के राजस्व विभाग ने कुछ नए कर लगाने एवं कुछ के बढ़ोत्तरी के प्रस्ताव बनाए थे, लेकिन महापौर शर्मा ने इन्हें रिजेक्ट कर दिया। महापौर ने कहा कि पहले विकास की बात करें, इसके बाद टैक्सेशन पर विचार होगा। इस बात की जानकारी मिली है कि नए बजट में कोई नया कर नहीं होगा और न ही करों में किसी तरह की वृद्धि होगी। नगर निगम पूरा जोर जनभागीदारी पर देगा। ताकि विकास कार्य निरंतर चलते रहें।
ढेरों सुझाव दिए शहरवासियों ने
पार्षदों के साथ-साथ बजट के लिए शहर की जनता ने ढेरों सुझाव दिए। यह पहला मौका है जब बजट में शामिल करने के लिए जनता से सुझाव मांगे गए थे। नागरिकों ने सर्वाधिक सुझाव पानी की व्यवस्था को लेकर दिए हैं। यही वजह है कि महापौर आलोक शर्मा ने भी अपनी प्रॉयरिटी पर भी पानी को रखा है। निगम इस बजट में अतिक्रमण एवं राजस्व को भी प्राथमिकता दे रहा है। यही कारण है कि नगर निगम अपने अधीन पुलिस बल चाहता है ताकि, अतिक्रमण हटाने के लिए समय पर अमला मौजूद रहे। राजस्व बढ़े और इसके लिए निगम में पर्याप्त अधिकरी -कर्मचारी हों, इसलिए तहसीलदार और नायब तहसीलदार सहित अन्य अमला बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है।
इस बार बजट में यह होगा खास
वॉटर डिस्ट्रीब्यूशन : पानी नहीं आने या लीकेज की सूचना के लिए मोबाइल एप और टैंकर बुकिंग एसएमएस से। पानी से संबंधित शिकायतें सीधे सहायक यंत्री के पास जाएंगी।
स्वच्छ भोपाल : कब सफाई होगी और कितने कर्मचारी आएंगे यह जानकारी एप पर मिलेगी। सफाईकर्मियों के वक्त पर न आने की शिकायत एप पर होगी। एएचओ कार्रवाई नहीं करते तो वरिष्ठ अधिकारियों को मैसेज जाएगा।
ट्रैफिक मैनेजमेंट : इंटीग्रेटेड ट्रांसपोर्ट सिस्टम को मोबाइल एप से कंट्रोल किया जाएगा। वाई-फाई से ट्रैफिक सिग्नल नियंत्रित होंगे।
स्मार्ट कॉल सेंटर : निगम का कॉल सेंटर कंप्यूटराइज्ड होगा। हर शिकायत और कार्रवाई का विवरण व फॉलोअप कंप्यूटर बताएगा।
स्ट्रीट लाइट्स : एसएमएस से बंद-चालू होंगी स्ट्रीट लाइट्स। निगमकर्मी मोबाइल से एसएमएस भेजकर काम कर सकेंगे।
पब्लिक ट्रांसपोर्ट : एप और बस स्टॉप पर बस की रियल टाइम लोकेशन मिल सकेगी। बस रूट, ऑटो, रेडियो टैक्सी बुकिंग आदि जानकारी मोबाइल फोन पर उपलब्ध होगी।
स्मार्ट पार्किंग: हर पार्किंग में इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले लगेगा। पेड पार्किंग कार्ड बनेगा।
एक बार कार्ड रिचार्ज कराने के बाद उसे पार्किंग में स्वैप कराना पड़ेगा। यदि एक जगह पार्किंग फुल है तो पास की किस पार्किंग में जगह खाली है, यह जानकारी एप पर मिलेगी। पर्किंग में कर्मचारियों द्वारा दी जाने वाली कंप्यूटराइज्ड पर्ची की डिटेल ऑनलाइन होगी।
कांग्रेस पार्षद दल की बैठक ढाई बजे से रोशनपुरा में
जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यालय रोशनपुरा में आज ढाई से बजे से कांग्रेसी पार्षदों की बैठक का आयोजन किया गया है। इसमें बजट को लेकर चर्चा की जाएगी। बैठक में जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पीसी शर्मा के उपस्थित रहने की संभावना है। बैठक में ही पार्षदों से सलाह कर परिषद में नेता प्रतिपक्ष के चयन की भी संभावना है। नेता प्रतिपक्ष के लिए पूर्व नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीरके नाम पर चर्चा होनी है। इसके साथ ही इस पद के लिए गिरीश शर्मा, शफीक खान एवं अमित शर्मा के नाम भी चल रहे हैं। संभव है कि बजट बैठक  के लिए नेता प्रतिपक्ष का चयन हो जाए।
भाजपा पार्षद ढ्ढस्क्चञ्ज परिसर में शाम को करेंगे चर्चा
आज शाम को चार बजे भाजपा पार्षद दल की बैठक का आयोजन आईएसबीटी परिसर में बने परिषद हाल में किया गया है। इसमें निगम परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान और महापौर आलोक शर्मा भी उपस्थित रहेंगे। बैठक में नए पार्षदों को बजट बैठक की प्रकिया और उसमें किस प्रकार के सवाल जवाब किए जाने हैं, इस बात की जानकारी दी जाएगी। निगम से जुड़े सूत्रों का कहना है कि बजट में स्वच्छ भोपाल, ग्लोबल भोपाल आदि विषयों को भी विस्तार से प्रस्तुत किया जाएगा।
--------

लाटसाब के ओहदे से नवाजने की तैयारी

भोपाल (मारुति एक्सप्रेस)।
मिजोरम के राज्यपाल अजीज कुरैशी के बर्खास्त होने के बाद प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी और केन्द्रीय मंत्री नजमा हेपतुल्ला को राज्यपाल बनाए जाने की संभावना बढ़ गई है। अगले माह देश के आठ राज्यों में नए राज्यपाल नियुक्त किए जाने की सुगबुगाहट है। इनमें बिहार, असम, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, तेलांगाना और त्रिपुरा शामिल हैं। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश से वास्ता रखने वाले अजीज कुरैशी को केन्द्र सरकार ने उत्तराखंड से हटा कर मिजोरम का राज्यपाल बनाया था। उन्होंने केन्द्र के इस निर्णय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की शरण ली थी। उन्हें मिजोरम का राज्यपाल बने अभी चार महीने भी पूरे नहीं हुए थे कि कल राष्ट:पति प्रणव मुखर्जी के आदेश से बर्खास्त कर दिया गया। फिलवक्त देश के आठ राज्यों में राज्यपाल के पद खाली हैं। भाजपा की तीन और चार अप्रैल से बैग्लूर में होने वाली राष्ट:ीय कार्यसमिति की बैठक में राज्यपालों की नियुक्ति मामले पर भी कोर कमेटी को विचार करना है। माना जा रहा है कि राष्ट:ीय कार्यकारिणी की बैठक में इन राज्यों के लिये राज्यपालों के नाम तय कर
लिए जाएंगे।
प्रभावित हो रहा कामकाज
केन्द्र सरकार राज्यपाल नियुक्ति को लेकर इसलिए भी गंभीर है कि कई राज्यपालों के पास अन्य राज्यों का प्रभार होने से कामकाज प्रभावित हो रहा है। जिन प्रमुख नेताओं को राज्यपाल बनाने जाने के लिए कयास लगाए जा रहे हैं उनमें मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी हैं। जोशी का नाम छह माह पहले उस समय भी खासी चर्चाओं में था जब केन्द्र ने भाजपा सांसद कप्तान सिंह सोलंकी और केसरीनाथ त्रिपाठी को राज्यपाल बनाया था पर उस समय कैलाश जोशी के नाम पर अंतिम सहमति नहीं बन पाई थी। भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी का सारा राजनीतिक जीवन बेदाग रहा है और उन्हें संत प्रवृत्ति का राजनेता कहा जाता है। संगठन सूत्रों की माने तो अप्रैल माह के दूसरे सप्ताह में जारी होने वाली राज्यपालों की सूची में उनका नाम शुमार हो सकता है।
मुस्लिम महिला होने के कारण आगे
मध्यप्रदेश के कोटे से राज्यसभा सांसद और केन्द्रीय मंत्री नजमा हेपतुल्ला को राज्यपाल बनाने की दौड़ के पीछे उनका मुस्लिम महिला होना कारण बताया जा रहा है। भाजपा नजमा के नाम को आगे बढ़ाकर महिला और मुस्लिम दोनों ही समीकरण को साधने की कोशिश कर सकती है। यही वजह है कि उनके भी राज्यपाल बनने की चर्चा सरगर्म है।
उनकी उम्र कारण बताई जा रही है। नजमा अप्रैल माह में 75 साल की हो जाएंगी। मोदी सरकार में 75 साल से ज्यादा उम्र की कोई मंत्री नहीं है। ऐसे में उनका सम्मानजनक पुनर्वास भाजपा करना चाहेगी।

जम्मू-कश्मीर में फिर मौसम से आफत, हर संभव मदद को तैयार केंद्र

श्रीनगर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर में बाढ़ की स्थिति का आकलन करने के लिए अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के साथ-साथ अधिकारियों की उच्च स्तरीय टीम भेज रहे हैं। केंद्र सरकार ने राज्य को सभी तरह की सहायता उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है। कश्मीर में हिमस्खलन में दस लोगों के मारे जाने की खबर है। बडगाम के लादेन गांव में एक मकान दह गया है। मूसलाधार बारिश के बाद कश्मीर में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। उधर झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और राज्य में बाढ़ घोषित कर दी गई है। उमर अब्दुल्ला ने मोदी सरकार पर बाढ़ पीडि़तों की मदद में देरी करने का आरोप लगाया है। मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने उम्मीद जताई है कि आज हालात में सुधार आ जाएगा। जम्मू-कश्मीर रवाना होने की तैयारी कर रहे नकवी ने कहा कि केंद्र सरकार राज्य को सभी तरह की सहायता उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। वह नुकसान का आकलन करेंगे कि केंद्र से किस तरह की सहायता की जरूरत है। इस तरह की स्थिति फिर पैदा नहीं हो यह सुनिश्चित करने के रास्तों पर भी वह चर्चा करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा, 'बारिश और बाढ़ से लोग बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हालात को लेकर चिंतित हैं। वह लोगों की मदद के लिए तैयार हैं और प्रतिबद्ध हैं। मैं जल्द से जल्द प्रधानमंत्री को एक रिपोर्ट भी सौंपने की कोशिश करेंगे। जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने बाढ़ जैसी स्थिति का सामना कर रहे क्षेत्रों का जायजा लिया। इसके बाद उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि आज स्थिति में सुधार आ जाएगा। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हम बाढ़ में प्रभावित हुए ऐसे लोगों को मुआवजा देने की कोशिश कर रहे हैं, जिनका इंश्योरेंस नहीं है। जम्मू-कश्मीर के शिक्षा मंत्री नईम अख्तर ने कहा कि प्रशासन ने प्रदेश में बाढ़ घोषित कर दी है। कई इलाकों में झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। हम पिछले साल आई बाढ़ से सीख लेने की कोशिश कर रहे हैं। बाढ़ नियंत्रक टीम पूरी तरह से सर्तक है। वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि हम कश्मीर में बाढ़ के मुद्दे पर राजनीति नहीं करना चाहते। हम सिर्फ इनता चाहते हैं कि सरकार बाढ़ की इस स्थिति से कैसे निपटेगी, वो योजना लेकर सामने आए। हालांकि उमर अब्दुल्ला ने बाढ़ पीडि़तों की मदद में देरी करने के लिए मोदी सरकार पर जरूर निशाना साधा। इस बीच एनडीआरएफ की टीमों ने घाटी में राहत और बचाव कार्य तेज कर दिया है। झेलम नदी आज सुबह श्रीनगर और संगम क्षेत्र दक्षिण कश्मीर में खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी। कश्मीर में शनिवार से ही झमाझम बारिश हो रही है। मौसम विभाग ने बर्फबारी की संभावना भी जताई है। सोमवार सुबह एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आज सुबह 6 बजे झेलम नदी का जल स्तर संगम (दक्षिण कश्मीर) और राम मुंशी बाग (श्रीनगर शहर) पर क्रमश: 22'.4 फीट और 18'.8 फीट को छू गया है। खतरा का निशान संगम पर स्तर 21 फीट है और राम मुंशी बाग में यह 18 फीट है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर में बनी बाढ़ जैसी स्थिति का आकलन करने के लिए अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के साथ-साथ अधिकारियों की उच्च स्तरीय टीम भेज दी है। बाढ़ के खतरे को देखते हुए झेलम नदी के किनारे बसे लोगों ने घरों को छोड़ सुरक्षित स्थानों पर कूच करना शुरू कर दिया है। एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि हमने खासतौर से बच्चों और बूढ़ों को सुरक्षित स्थानों पर भेजना शुरू कर दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि बाढ़ नियंत्रण के लिए तैनात सभी कर्मचारियों को तुरंत ड्यूटी के लिए रिपोर्ट करने को कहा गया है। उधर एनडीआरएफ के डीजी ओपी सिंह का भी कहना है कि पिछले दो घंटे से बारिश नहीं हुई है। हमने अपनी टीमें एहतियाद के तौर पर राज्य में भेज दी हैं जो स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। कुछ इलाकों में जल भराव की समस्या जरूर देखने को मिल रही है, लेकिन अभी बाढ़ जैसी स्थिति नहीं है। इसलिए हम लोगों से अपील कर रहे हैं कि वे डरे नहीं। हालांकि हम बाढ़ के लिए पूरी तरह से तैयार है। बाढ़ की चपेट में आकर जम्मू-कश्मीर के बडगाम में लादेन गांव में एक मकान दह गया है, जिसके मलबे में 21 लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है। मलबे के नीचे से 16 लोगों को निकाल लिया गया है। बता दें कि जल स्तर 23 फीट के निशान को पार कर जाता है, तो राज्य को बड़े पैमाने पर बचाव कार्य शुरू करना होगा ओर झेलम नदी के आसपास के क्षेत्रों में बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना होगा।
अमेठी में महिला वोलेंटियर के साथ सोते पकड़े गए थे कुमार!

नई दिल्ली। इन दिनों आम आदमी पार्टी में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। पहले स्टिंग ऑपरेशन का सामने आना, फिर ऑडियो टेप जारी होना, उसके बाद पार्टी के भीतर पड़ी दरार से मची रार और अब कुमार विश्वास पर एक सनसनीखेज आरोप। इन सब ने 'आप' को झकझोर दिया है। कुमार पर आरोप लगाया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के दौरान जिस वक्त वो अमेठी में थे उनके संबंध पार्टी की एक महिला वोलेंटियर के साथ थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कुमार विश्वास और केजरीवाल के बीच साझा हुए ऐसे इमेल की सीरीज है जिससे ये खुलासा हुआ। खबर के अनुसार कुमार विश्वास अमेठी में आप महिला वालेंटियर के साथ सोते थे। यही नहीं उन्हें आपत्तिजनक स्थिति में उनकी पत्नी ने भी रंगेहाथ पकड़ा था। आम आदमी पार्टी के अजय वोहरा ने केजरीवाल को एक मेल भेजा है जिसमें उन्होंने कुमार विश्वास पर ये आरोप लगाये हैं। यही नहीं उन्होंने कुमार पर कालाधन भी लेने का आरोप लगाया है। 24 दिसंबर को भेजे इस मेल के बाद केजरीवाल ने वोहरा को इस बात का आश्वासन दिया कि वह इस मामले की जांच करायेंगे और कार्रवाई करेंगे। वहीं कुमार विश्वास ने केजरीवाल को भेजे मेल में कहा है केजरीवाल को खुद मुझे इस बारे में पूछकर मेरा पक्ष जानना चाहिए था बजाए इसके कि वोहरा की बात पर यकीन करने के। मेल में विश्वास केजरीवाल से अपनी इस मामले में राय की बात कहते हैं, साथ ही उनकी पत्नी का नाम इस मामले में घसीटने पर आपत्ति जताते हैं। सोशल साइट्स पर भी कुमार विश्वास के इस खुलासे पर तरह तरह की प्रतिक्रयाएं आ रही हैं। एक्सपोजिंग कुमार विश्वास ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैं। इस हैस टैग के साथ कुमार पर तरह-तरह के आरोप लगाये जा रहे हैं उनसे जवाब मांगा जा रहा है कि क्या उन पर लग रहे आरोप सही हैं।
अब कांग्रेस भी चलाएगी सदस्यता अभियान, मनमोहन सिंह ने लॉन्च की योजना

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव और दिल्ली विधानसभा चुनाव में करारी हार से सबक लेते हुए कांग्रेस अब आप व भाजपा की राह चलने लगी है। इन दोनों पार्टियों की तरह कांग्रेस ने भी अब सदस्यता अभियान की शुरूआत की है।दिल्ली से शुरू हुई इस योजना की शुरूआत वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने की।
इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर कांग्रेस की प्राथमिक सदयस्ता ग्रहण की जा सकती है।फिलहाल इस योजना की शुरूआत सिर्फ दिल्ली में की गई है। दिल्ली के बाद अब योजना को पूरे देश में अभियान स्वरूप चलाया जाएगा। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से शुरू की गई इस योजना की लॉन्चिंग पर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन, पीसी चाको व कई बड़े नेता उपस्थित थे। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की पत्नी भी इस कार्यक्रम में मौजूद थीं।उन्होंने भी ऑनलाइन आवेदन कर एक बार फिर से कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।

ग्रामीण क्षेत्रों में निकल रही नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता की हवा!
नई दिल्ली। क्या अच्छे दिनों का सपना दिखाकर प्रधानमंत्री बने नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता गिरती जा रही है? ग्रामीण भारत की स्थिति और किसानों का रुख देखकर तो यही लग रहा है। एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट में बताया गया है कि मोदी सरकार के एक साल से कम के कार्यकाल में एक दर्जन से अधिक किसानों ने आत्महत्या कर ली है। बेमौसम बारिश के चलते फसलें बर्बाद हो गई हैं। गरीब जनता अपने प्रधानमंत्री से मदद की आस लगाए बैठी है, लेकिन उसे मायूसी हाथ लग ही है। एक तो मदद नहीं मिल रही, ऊपर से जमीन अधिग्रहण जैसे किसान विरोधी कानून लाने की कवायद चल रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, ग्रामीणों में गुस्सा है कि मोदी सरकार फसल की कीमत स्थित रखने के लिए कोई कदम नहीं उठा रही है। सबसिडी को खत्म किया जा रहा है। सरकार का पूरा ध्यान निवेश पर है। उत्तर प्रदेश के एक गांव में धर्मेंद्र सिंह अपने भाई बाबू सिंह की मौत का अफसोस जताते हुए कहता है कि हमने मोदी सरकार को वोट दिया था। अब मौसम की गाज गिरी है तो उन्होंने मुंह मोड़ लिया। बाबू सिंह पर आठ लाख का कर्ज था और बारिश के चलते उसकी पांच एकड़ की फसल बर्बाद हो गई। धर्मेंद्र जैसे सैकड़ों किसान आगे आए हैं और मोदी सरकार के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर कर रह हैं। सिसोला खुर्द गांव के जीतेंद्र कुमार का कहना है कि मोदी ने हमें धोखा दिया है। हमने भाजपा सांसदों के गांव में प्रवेश पर रोक लगा दी है।
रिवाल्वर लटका कर बच्चों को संबोधित कर रहे थे महाराष्ट्र के मंत्री

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार के एक मंत्री गए थे तो एक कार्यक्रम में बच्चों को संबोधित करने लेकिन उनके बेल्ट में बंधा रिवाल्वर दिख रहा था। इस बात को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया है। लोग सवाल पूछ रहे हैं कि मंत्री जी को बच्चों के कार्यक्रम में रिवाल्वर लटका कर जाना कहां तक उचित था। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में फडऩवीस सरकार के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन जलगांव में बच्चों के एक कार्यक्रम में गए थे। विवाद पर सफाई देते हुए महाजन ने कहा कि वह आत्मरक्षा के लिए रिवाल्वर हमेशा अपने पास रखते हैं। उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि उनके कमर में बंधा रिवाल्वर दिख रहा था। लेकिन उन्होंने कहा कि मैने अपने जीवन में कभी किसी पर इसे ताना नहीं है। न ही कभी किसी हिंसा या हिंसक गतिविधि में शामिल रहा हूं।

                 Image..                         Open a new window
Top News
 
रिवाल्वर लटका कर बच्चों को संबोधित कर रहे थे महाराष्ट्र के मंत्री
 
सामाजिक कार्यकर्ता जनक पलटा को पद्मश्री अलंकरण
 
महाकोशल-विंध्य में फिर बारिश से किसान चिंतित
 
संभाग से ख़बरें
Bhopal
117.204.194.159A35363bhopal.jpg

भोपाल। सरगम टॉकीज के पास एक कोचिंग संचालक के निवास पर रविवार की र
Satna
117.204.194.159A80687satna.jpg

सतना। अमरपाटन के ताला गांव में एक ट्रेक्टर ट्राली पलटने से दो लो
Rewa
117.204.194.159A5191rewa.jpg

रीवा। सिविल लाइन थाना क्षेत्र में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्ê
 
Jabalpur
117.204.194.159A46557jabalpur.jpg

जबलपुर। देररात फिर महाकोशल और विंध्य के अधिकांश जिलों में बारिश
Indore
117.204.194.159A79232indor.jpg

इंदौर। शहर में सामाजिक गतिधियों में सक्रियता से जुड़ी डॉ. जनक पल
Sagar
117.204.194.159A28770Page 1 copy.jpg

सागर। जिला अस्पताल के पुलिस चौकी प्रभारी एएसआई राम विशान खरे को 
खेल मनोरंजन फिल्म
ये कैसा धोखा, आखिर टीम इंडिया के साथ ऐसा क्यों हुआ?
मेट्रो ट्रेन के पीछे लटके तीन किशोर
बिग बी को मिला पद्म विभूषण, भंसाली को पद्म श्री
Photo Albums
NO Photo available in this Album!!
 
विज्ञापन
Market Watch
Hot Pictures of the Day
 
 Yes
 No
 Cannot say
 
News paper PDF