Mon Jun 26 3:24:39

पाकिस्तान: तेल टैंकर में आग, सौ से ज्यादा लोग जिंदा जले
इस्लामाबाद। पाकिस्तान से भीषण हादसे की खबर है। यहां के पंजाब प्रांत के बहावलपुर शहर में तेल टैंकर में आग लगने के कारण कम से कम 123 लोगों की मौत हो गई और जबकि 40 लोग घायल बताए जा रहे हैं। सुरक्षाकर्मी मौके पर पहुंच गए हैं और घायलों को बहावल विक्टोरिया अस्पताल और गंभीर रूप से घायल लोगों को जिला मुख्यालय अस्पताल शारिया ले जाया गया है। जियो टीवी के मुताबिक, हाईवे पर तेल टैंकर तेज गति से जा रहा था। संतुलन बिगडऩे से वह पलट गया और तेल रिसने लगा, जिसे भरने के लिए भीड़ जमा हो गई। ये लोग लीक तेल को डब्बों में भर रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार आसपास के कुछ लोग सिगरेट पी रहे थे जिस वजह से आग लग गई। हादसा शहर के राष्ट्रीय राजमार्ग के पुल के निकट हुआ। विस्फोट इतना भयंकर था कि 75 मोटरबाइक और चार कारें भी जल गईं। बचाव सूत्रों के मुताबिक, मृतक की पहचान उनके डीएनए नमूना प्राप्त किए बिना पता नहीं की जा सकती क्योंकि शव बुरी तरह से जल चुके हैं। आग पर काबू पा लिया गया है और हाईवे पर यातायात भी बहाल कर दिया गया है। इस बीच, पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ ने हादसे के जांच के आदेश दे दिए हैं। सेना के हेलीकॉप्टर भी लगाए गए हैं ताकि घायलों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया जा सके। बहावलपुर के डीसीओ सलीम अफजल के अनुसार, हादसा रविवार सुबह अहमद जयपुर शरकया के पास राष्ट्रीय राजमार्ग पर हुआ।
चित्रकूट अपहरण: पुलिस कप्तान की नाकामी या थाना प्रभारियों की मनमानी
307 के आरोपी के साथ फोटो सेशन कराने वाले छपास रोगी चित्रकूट एसडीओपी पन्नालाल अवस्थी मंदाकिनी नदी के नाम पर शिगूफा फैलाने वाले नदी तो साफ हो नहीं पाई नेतागिरी इनकी जरूर चमक रही है और तराई में बढ़ रहा आपराधिक घटनाओं का ग्राफ अपहरण से क्षेत्र में भय और आतंक का वातावरण
सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
जिले में इन दिनों में कानून व्यवस्था का क्या हाल है वह विगत एक हफ्ते पहले चित्रकूट नयागांव थाना क्षेत्र में एक लड़की के अपहरण और कल उचेहरा थाना क्षेत्र अंतर्गत लड़के के अपहरण से पुलिस की नाकामी हो सक्रियता और पुलिस के उस स्लोगन  की सतना पुलिस सदैव आपके साथ  लेकिन अपहरण की हो रही वारदातों से तो यही पता चलता है कि सतना में तो पुलिस कहीं दिख ही नहीं रही ऐसा लग रहा है कि सतना पुलिस सदैव अपराधियों और अपराध करने वालों के साथ खड़ी नजर आ रही जिसके कई उदाहरण कई थाना क्षेत्रों में देखने को भी मिले  की पुलिस की शह पर ही वरिष्ठ अधिकारियों के ऊपर हाथ उठाने से अपराधी बाज नहीं आते  और वहीं दूसरी ओर  थाने के अंदर से चोरी की गई घटनाएं यह प्रमाणित करती है कि पुलिस की सुस्त चाल और अपराधियों के हौसले सातवें आसमान पर बुलंद  और इसके पीछे कहीं ना कहीं पुलिस कप्तान की नाकामी उजागर होती है या फिर यूं कहें कि  पुलिस कप्तान को थाना प्रभारी तवज्जो ही नहीं दे रहे है और अपनी मनमानी से पूरे शहर को बेहाल किए हुए यह तो  उन्हें पुलिस कप्तान या पुलिस विभाग को सोचना होगा कि ऐसे थाना प्रभारियों की चलते क्या पुलिस की छवि जनता के बीच क्या बन रही  है पुलिस के कारनामे की पोल खोलने के लिए काफी है।
बिहार जैसी घटनाओं के सपने दिखा रहे पुलिस कप्तान और थाना प्रभारी
जिले में बढ़ रही रोजाना आपराधिक घटनाओं और वारदातों से तो यही पता चलता है कि अब जिले में कानून व्यवस्था का नहीं अपराध और अपराधियों का राज कायम हो रहा है और पुलिस कप्तान से लेकर थाना प्रभारी बिहार राज्य के घटनाओं के सपने जिले के अंदर दिखा रहे हैं खुलेआम अपहरण लूट वारदातों को अंजाम देकर फरार हो जा रहे आरोपी और हद तो तब हो गई थी हफ्तों महीनों तक अपराध और अपराधियों का पता लगाने में नाकाम पुलिस प्रशासन अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए हवा में ही तीर चला रही है जबकि चित्रकूट में लड़की के अपहरण की घटना को लगभग एक हफ्ते हो गए और पुलिस उस का सुराग तक नहीं लगा पाई और थाना प्रभारी से लेकर एसडीओपी चित्रकूट वैसे भी अपनी नाकामी और मनमानी के लिए पहचाने जाते है और जिनके हवाले कई वर्षों से दस्यु प्रभावित तराई क्षेत्र थानों की जिम्मेदारी है वे वहा मंदाकिनी के नाम पर नेतागिरी कर रहे हैं और मंदाकिनी नदी के नाम पर शिगूफा फैलाने वाले और पेपर की सुर्खयि़ों में नाम बटोरने के अलावा इनके पास कुछ काम बचा नहीं और वैसे भी आरोपियों के साथ इनकी सांठगांठ भी है विगत माह पूर्व 307 के आरोपी के साथ फोटो सेशन कराने वाले माल्यार्पण कराने की फोटो का सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिस में पुलिस विभाग को जवाब देते नहीं बन रहा था एक आरोपी के साथ इतनी बड़े पुलिस विभाग के अधिकारी का फोटो खिंचवाना जबकि आरोपी के ऊपर  यह आरोप था कि पुलिस की वर्दी पढऩे और अपने साथियों के साथ पुलिस विभाग और जिला अस्पताल मारपीट करने घटना को अंजाम देने का आरोप था उसके साथ फोटो खींचा कर पुलिस विभाग को क्या मैसेज देना चाहते थे इससे यह स्पष्ट होता है कि तराई क्षेत्र में इनके रहते हैं वहां की क्या स्थित होगी यह ना तो विभाग को बताने की जरुरत और ना ही क्षेत्रीय जनता को और वैसे भी यह तो सिर्फ नेतागिरी करने के नाम पर पुलिस विभाग का उपयोग कर रहे हैं। और तराई क्षेत्र का इनके राज में क्या हाल वह केवल पूरी तरह से देख जा सकता है।
लड़की का अपहरण हुआ है और थाना प्रभारी ङ्खद्धड्डह्लह्य्रश्चश्च पर फोटो बदल रहे
चित्रकूट क्षेत्र में जहां एक और लड़की के अपहरण से जहां तराई क्षेत्र में भय और आतंक का माहौल है वहीं दूसरी ओर पुलिस की संजीदगी का पता इसी से लगाया जा सकता है कि एक हफ्ते भी जाने के बाद भी नयागांव थाना क्षेत्र के पुलिस और उनके वरिष्ठ छपास रोग अधिकारी चित्रकूट एसडीओपी पन्नालाल अवस्थी आज तक लड़की का सुराग नहीं लगा पाए और यह थाना प्रभारी अपने कर्तव्य के प्रति कितने  सजक इस बात से पता चलता है कि अपहरण की गई लड़की का सुराग लगाना तो दूर की बात है थाना प्रभारी देवी सिंह उईके ङ्खद्धड्डह्लह्य्रश्चश्च पर अपनी फोटो बार-बार बदल रहे हैं तो क्या पुलिस कप्तान इनको तराई क्षेत्र में हरे-भरे पेड़ों के बीच फोटो खिंचवाकर सोशल मीडिया में डालने के लिए वहां पदस्थ किया है या तो पुलिस कप्तान ही बता पाएंगे लेकिन जिस तरह से नयागांव थाना प्रभारी की लापरवाही और उदासीनता सामने आई है उससे कहीं न कहीं पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली और कार्यवाहियों पर प्रश्नचिन्ह खड़ा होता है। तराई क्षेत्र के थानों पर ऐसे थाना प्रभारियों की पदस्थापना को लेकर पुलिस कप्तान की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा होता है कि दस्यु प्रभावित क्षेत्र तराई प्रभावित क्षेत्र में ऐसे थाना प्रभारियों की पोस्टिंग करने का क्या मतलब जो कि कभी अपने थाना क्षेत्र का पूरी तरह से भ्रमण तक नहीं कर पा रहे वह तराई क्षेत्र को कैसे संभाल सकते है।
जिम्मेदार थाना प्रभारी और एसडीओपी पर पुलिस कप्तान कब करेंगे कार्यवाही
चित्रकूट शहर में हुए अपहरण कांड और कल उचेहरा क्षेत्र में लापता हुए बालक का तो सुराग  तो पुलिस से नहीं लगा पाई लेकिन पुलिस अधीक्षक मिथिलेश शुक्ला चित्रकूट एसडीओपी और थाना प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई करेंगे यह तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन जिस तरह से तराई क्षेत्र में हो रहे दिनदहाड़े अपहरण से तराई क्षेत्र में भाई और आतंक का वातावरण क्षेत्र में बना हुआ है वहीं दूसरी ओर पुलिस विभाग की कार्यशैली पर भी लोगों पर जनकपुर भड़क रहा है और उससे कहीं न कहीं पुलिस विभाग की साख पर बट्टा जरूर लगा है तो क्या ऐसे थाना प्रभारीयो और एसडीओपी के हवाले तराई क्षेत्र थाने और तराई की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती  है जो सिर्फ समाज रोटी की तरह सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनने के लिए फोटो सेशन पर आते रहते हैं और हल्की तब हो गई थी जिस थाना क्षेत्र का यह प्रकरण उसके थाना प्रभारी आए दिन ङ्खद्धड्डह्लह्य्रश्चश्च फोटो बदल रही  और लड़की का तो कोई सुराग नहीं पा रहा  है यह तो पुलिस विभाग को विचार करना ही होगा।
पुलिसिंग छोड़ एसडीओपी पन्नालाल की मंदाकिनी राजनीतिक हावी
पुलिस विभाग में तराई क्षेत्र चित्रकूट मैं एक ऐसे एसडीओपी पन्नालाल अवस्थी की पदस्थापना कई वर्षों से करके रखी है जो कि वहां पर पुलिसिंग छोड़ छपास रोगियों की तरह सोशल मीडिया और फेसबुक पर बने रहने के लिए दिन रात एक किए हुए हैं और इन सब के पीछे मंदाकिनी नदी में सफाई के नाम पर जमकर राजनीति कर रहे हैं जबकि मंदाकिनी की क्या हालत है या तो किसी को बताने की जरूरत नहीं और ना ही मंदाकिनी  की सफाई कहीं दिख नहीं रही है लेकिन पुलिस विभाग ने तो डकैतों की सफाई के लिए वहां पोस्टिंग किया था लेकिन वहां उनके कार्यकाल में जिस तरह से आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के बाद डकैतो अपहरणकर्ता फरार हो जा रहे हैं और यह सिर्फ हाथ पर हाथ धरे बैठकर तमाशबीनों की तरह तमाशा देख रहे हैं उससे कहीं न कहीं उनकी कार्यप्रणाली पर भी प्रश्नचिन्ह खड़ा हो रहा और विगत माह पूर्व एक 307 के आरोपी के साथ फोटो का वायरल होना इन की आपसी सांठगांठ को भी उजागर करता है तो क्या पुलिस कप्तान और पुलिस महकमा इनकी सुस्त चाल वाली कार्यप्रणाली और पुलिसिंग छूट राजनीति पर उतारू एसडीओपी पर कार्रवाई करेंगे क्योंकि जिस तरह से उनके क्षेत्र में लड़की का सरेआम अपहरण होना और इनका किसी भी प्रकार का वहां पर नजर ना आना पुलिस विभाग पर एक और सवाल खड़ा करता है।
लड़की के सकुशल वापसी के लिए पुलिस कप्तान को निर्देश दिये गये थे। अब तक क्या किया इसकी जानकारी लेता हूं रही बात तराई थाना क्षेत्र के थाना प्रभारियों की कार्यप्रणाली पर इसकी जांच कराकर दोषियों के विरुद्घ सख्त कार्रवाई की जायेगी। तराई के थानों में ऐसे जल्द ही बदलाव किया जायेगा जिससे वहां की व्यवस्था में सुधार हो सके। एसडीओपी के संबंध में पहले भी रिपोर्ट भेजी जा चुकी है।
आशुतोष राय, आईजी रीवा
सर्वशिक्षा अभियान: 2 लाख 22 हजार छात्रों को गणवेश का इंतजार
सर्व शिक्षा अभियान की कछुआ चाल से बिगड़ी जिले की शैक्षणिक व्यवस्था, प्रभारी डीपीसी और सेवा से बर्खास्त बाबू नासूर बने, शिक्षा विभाग के लिए कार्यालय बना बीमा बेचने की दुकान
सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
जिले के सर्व शिक्षा अभियान अंतर्गत शिक्षा विभाग में प्राथमिक माध्यमिक शिक्षा का संचालन और शासन की योजनाओं का क्रियान्वयन किया जाता है लेकिन जिला शिक्षा केंद्र भ्रष्टाचार और अवैध वसूली का अड्डा पूर्णता बन चुका है और सर्व शिक्षा अभियान के इस कार्यालय में सेवा से बर्खास्त बाबू रामजी पटनहा के द्वारा कार्यालय को बीमा बेचने की दुकान बना लिया है और जिला शिक्षा केंद्र के शिक्षा विभाग के कार्यालय में शिक्षा के कार्य के अलावा सारे काम होते हैं और प्रभारी डीपीसी का संरक्षण इसी दलाल को प्राप्त है सेवा से बर्खास्त रामजी पटनहा जिला शिक्षा केंद्र के कार्यालय में बर्खास्त होने के बाद भी बीमा पॉलिसी बेचने की दलाली करता है और वहां आने वाले कार्यालय के प्रमुखों से जमकर वसूली करता और इन सब के पीछे प्रभारी डीपीसी एन.के.सिंह का संरक्षण होना बताया जा रहा है  जिला शिक्षा केंद्र का मुख्य कार्य शासन की योजनाओं का क्रियान्वयन कर के साथ में व्यवस्था को सुधारने ना की जिला शिक्षा केंद्र बीमा बेचना नवीन सत्र प्रारंभ होने के बाद भी आज तक जिला शिक्षा केंद्र प्रभारी डीपीसी के द्वारा निर्धारित नहीं किया गया है  जिले में कितने छात्र छात्राओं को गणवेश दिलाया जाना जबसे प्रभारी डीपीसी को सर्व शिक्षा अभियान की कमान सौंपी गई है तब से सर्व शिक्षा अभियान की यह हालत हो गई जबकि इसके पहले विगत शैक्षणिक सत्र में प्रवेश उत्सव के दिन ही छात्रों को किताबें और गणवेश वितरित कर दिया जाता था तो क्या जिले में सर्व शिक्षा अभियान की  दशा बिगाडऩे वाले प्रभारी डीपीसी और उनके सेवा से बर्खास्त बाबू के खिलाफ कोई कार्यवाही जिला प्रशासन के द्वारा होगी क्योंकि इनके रहते शिक्षा विभाग का तो भला नहीं हो सकता बल्की अपनी बीमा की दुकान चलाने में इन्होंने ज्यादा दिलचस्पी दिखाई है और जिला मिशन संचालक सब कुछ जानने के बाद अभी किस सेवा से बर्खास्त बाबू के खिलाफ ना तो कानूनी कार्यवाही की गई और ना ही अवैधानिक रूप से 9 साल से फर्जी तरीके से ले रहे सरकारी वेतन किसे वसूल किया गया तो क्या हाई कोर्ट का आदेश जिला मिशन संचालक की रागनी भावना साबित होगा यह तो जिला प्रशासन ही तय करेगा क्या सर्व शिक्षा अभियान का यही हाल रहेगा।
जिला मिशन संचालक को आंकड़ों
में उलझाया प्रभारी डीपीसी ने
सर्व शिक्षा अभियान द्वारा जिले के समस्त प्राथमिक माध्यमिक शालाओं में मिलने वाले गणवेश और साईकिल और किताबों मे जिस तरह से आकडे बाजी के खेल में उलझा कर रख दिया उसने कही न कही शासन की योजनाओं पर पलीता लग रहा है और इससे कहीं ना कहीं छात्रों को नुकसान हो रहा है क्योंकि प्रभारी डीपीसी को तो कार्यालय में भ्रष्टाचार को छुपाने में ही समय व्यतीत कर रहे जिस तरह से शाला त्यागी अप्रवेशी छात्रावास में हुए भ्रष्टाचार और दूसरी ओर उन्हीं के कार्यालय में सेवा से बर्खास्त बाबू रामजी पटनहा को सरकारी वेतन दे और हाईकोर्ट के आदेश पर कुंडली मारकर बैठे रहना जिस तरह से शाला त्यागी अप्रवेशी छात्रावास बंद होने के बाद भी लाखों रुपए का फर्जी भुगतान होने के बाद कलेक्टर की फाइल पर महीनों से चक्कर लगवा रहे और प्रभारी अधीक्षिका को बचाने के लिए दिन रात एक किए हुए इससे कहीं न कहीं विभाग की छवि दागदार हो रही और आंकड़े बाजी में जिला मिशन संचालक को गुमराह करने का खेल प्रभारी डीपीसी के द्वारा खेला जा रहा है।
साइकिल कितने छात्रों को मिलनी है निर्धारित नहीं कर पाया जिला शिक्षा केंद्र
नवीन शैक्षणिक सत्र में कितने छात्र-छात्राओं को शासन की योजनाओं के तहत कक्षा 6 में प्रवेश लेने वाले कितने छात्र छात्राओं को साईकिल दिया जाना है इसका भी कोई सही पैमाने में निर्धारित पैमाना और आकडा जिला शिक्षा केंद्र मौजूद नहीं तो क्या इसी तरह से सर्व शिक्षा अभियान जिले में संचालित होगा कि सत्र प्रारंभ हो गया लेकिन कार्यालय के प्रमुख प्रभारी डीपीसी को यह नहीं पता कि वर्तमान सत्र में कितने छात्रों को साइकिल दी जानी है जब इस संबंध में जिला शिक्षा केंद्र के साइकल गणवेश प्रभारी एपीसी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि कोई निर्धारित सीमा नहीं और ना ही रिकॉर्ड है की कितने छात्र छात्राओं को साइकिल वितरण किया जाना है और जो यह गणवेश आकडा है वह भी निर्धारित नहीं है सिर्फ अनुमानित है तो क्या सर्व शिक्षा अभियान सिर्फ अनुमान मे चलेगा यह तो जिला मिशन संचालक ही बता पाएंगे कि क्या ऐसे ही प्रभारी डीपीसी के भरोसे सर्व शिक्षा अभियान पर छोड़ा जा सकता है जिनके कार्यालय में राज शिक्षा केंद्र के आदेशों का नहीं सेवा से बर्खास्त बाबू का राज चल रहा है और जिला शिक्षा केंद्र में इस द लाल के द्वारा वहां आने वाले शिक्षकों और कार्यालय के प्रमुखों से बीमा कराने का नाजायज दबाव बनाया जाता जब किसी हाई कोर्ट जबलपुर के द्वारा सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था तो फिर यह प्रभारी डीपीसी के संरक्षण में कब तक अवैधानिक रूप से काम करता रहेगा यह तो जिला मिशन संचालक निर्धारित करेंगे।
शाला त्यागी अप्रवेशी छात्रावास का प्रभारी डीपीसी ने कर दिया बंटाधार
सर्व शिक्षा अभियान के द्वारा संचालित शाला त्यागी अप्रवेशी छात्रावास जिसमें बिगत शैक्षणिक सत्र में छात्रावास में तो एक भी छात्र नहीं पहुंचे लेकिन बंद छात्रावास में प्रभारी डीपीसी ने प्रभारी अधीक्षिका के साथ मिलकर लाखों रुपए का भ्रष्टाचार जरूर कर डाला और फर्जी बिलों के सहारे जिला शिक्षा केंद्र मे ऑडिट का भी खेल खेला गया और जिला मिशन संचालक प्रभारी डीपीसी को पत्र ही लिखते रह गए लेकिन इन पत्रों का असर तो प्रभारी डीपीसी पर नही हुआ और ना ही छात्रावास प्रभारी पर इसके उलट जिला मिशन संचालक की आंख पर पट्टी बांधकर इन दोनों ने जमकर भ्रष्टाचार किया और बंद छात्रावास में लाखों रुपए का निपटारा कर डाला और कार्रवाई से बचाने के लिए प्रभारी डीपीसी ने अधीक्षिका से इस्तीफे की नौटंकी कराई और एसडीएम की जांच वाली फाइल कार्यालय से ही लापता हो गई और जिसका आज तक कोई पता नहीं चल पाया है।
घोटाला और भ्रष्टाचार करने के बाद बचने
का हुनर सीखिए प्रभारी डीपीसी से
जिस तरह से शाला त्यागी अप्रवेशी छात्रावास में लाखों रुपए का फर्जी भुगतान करके बंद छात्रावास में खर्चा किया गया उससे कहीं न कहीं सर्व शिक्षा अभियान और शिक्षा विभाग दागदार हुआ और जिला मुख्यालय से महज कुछ दूरी पर संचालित होने वाला बंद छात्रावास में एक भी छात्र तो नहीं थे लेकिन प्रभारी डीपीसी के संरक्षण में प्रभारी अधीक्षिका ने लाखों रुपए का फर्जीवाड़ा किया और बचने के लिए अब एसडीएम की जांच पर ही कुंडली मारकर बैठ गए प्रभारी डीपीसी और अधीक्षिका से इस्तीफा देने की नौटंकी करा ली गई और प्रकरण को दबाने का पूरी तरह प्रयास करने में लगे हुए है लेकिन अब देखना यह होगा कि जिला मिशन संचालक प्रभारी डीपीसी के इस कारनामे को चुपचाप सहन कर जाएंगे या फिर उनके खिलाफ कोई बड़ी कार्यवाही करेंगे क्योंकि जिला मिशन संचालक के निगरानी में ही सर्व शिक्षा अभियान चलता है शिक्षा विभाग में तो चर्चा यह भी है कि भ्रष्टाचार और घोटाला करने के बाद अगर बचना है तो प्रभारी डीपीसी से इस हुनर को जरुर सीखना चाहिए क्योंकि लाखों रुपए का फर्जी घोटाला और भ्रष्टाचार करने के बाद किस तरह आराम से बचा जा सकता है यह प्रभारी डीपीसी एन.के.सिंह को अच्छी तरह से जानते है।

नौकरी के लिए नटवरलाल बना जिला रोजगार अधिकारी
जाली दस्तावेज लगाकर सरकार को किया गुमराह, खुलासे के बाद भी उच्चाधिकारियों ने  फेरा मुंह
सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
जिस जिला  रोजगार कार्यालय पर शिक्षित बेरोजगारों को रोजगार देने का दायित्व सरकार ने सौंपा है, उसी रोजगार कार्यालय में एक अधिकारी फर्जी अंकसूचियों के दम पर नौकरी कर रहा है। विडंबना की बात है कि फर्जी दस्तावेजों के दम पर नौकरी हासिल करने के सनसनीखेज मामले के खुलासे के बाद भी आला अधिकारी इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। मामला जिला रोजगार कार्यालय में पदस्थ जिला रोजगार अधिकारी अमित सिंह का है। बताया जाता है कि तिकड़मी अमित सिंह अपने जाली शैक्षणिक दस्तावेज लगाकर सरकार की आंखों में धूल झोंक रहा है।
रीवा के सिटी कोतवाली अंतर्गत घोघर मोहल्ले में रहने वाले अमित सिंह  इन दिनों सतना जिला रोजगार अधिकारी का दायित्व निभा रहे हैं। अमित सिंह पर जाली शैक्षणिक दस्तावेज लगाकर नौकरी हथियाने का आरोप है। सूचना के अधिकार के तहत सामने आई जानकारी बताती है कि अमित सिंह ने नौकरी हथियाने जिस प्रकार की कागजी जालसाजी की है, वह शातिर ठग नटवरलाल के कारनामों को भी मात देने वाली है। आरोप हैं कि अमित सिंह ने दसवीं , बारहवीं , व बीएससी की डिग्रियां फर्जी लगाई हैं। इस मामले का खुलासा तब हुआ जब सूचना के अधिकार के तहत आवेदन लगाया गया।
प्रबंधन ने किया सत्यापन& अमित सिंह द्वारा जहां से परीक्षा पास करना बताया गया है उन स्कूल व कालेज प्रबंधन ने साफ़ तौर पर  कूटरचित दस्तावेज होने का सत्यापन किया है । शैक्षणिक संस्थान ने  उनकी हाई स्कूल ,हायर सेकेंडरी एवं स्नातक की डिग्री फर्जी सत्यापित की  है । जिन शैक्षणिक संस्थानों से अमित ने परीक्षा उत्तीर्ण करना बताया है, उन प्रबंधनों ने बताया है कि अमित द्वारा जमा कराई गई डिग्रियां फर्जी हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त अधिकारी 1995 से लेकर 2012 तक रीवा रोजगार कार्यालय में सहायक सांख्यिकी अधिकारी के पद में भी पदस्थ थे । फिर 2012 से लेकर अब सतना में रोजगार अधिकारी के रूप में पदस्थ है। शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सिरमौर में पदस्थ्य प्राचार्य ने मारुति एक्सप्रेस को बताया कि  इस अनुक्रमांक का कोई छात्र परीक्षा में सम्मिलित हुआ  ही नहीं है । यहां तक कि   मार्कशीट में जो सील साइन किए गए हैं वह भी पूरी तरह से फर्जी है ,  जबकि अमित सिंह द्वारा दसवीं और वारहवीं की परीक्षा पास करना सिरमौर से ही बताया गया है और दस्ताबेज भी इसी विद्यालय के पेश किए गए  हं। ै  सूचना के अधिकार के तहत दी गई जानकरी में प्राचार्य ने साफ़ तौर पर लिखा है कि वर्ष 1992 में अनुक्रमांक 1486495 पर अमित नाम का कोई छात्र परीक्षा में सम्मिलित नहीं हुआ है।   इसी तरह से स्नातक की अंकसूची के सम्बंध में भी शासकीय आदर्श विज्ञान महाविद्यालय प्राचार्य आरपी मिश्रा से जब बात की गई तो उनके अनुसार रीवा से 1999 में पास बताया गया जिसका अनुक्रमांक 1428  किसी भी छात्र को आवंटित नहीं किया गया था  इस तरह से  यह स्पष्ट हो गया है कि उक्त व्यक्ति द्वारा फर्जी अंकसूची लगाकर कूट रचित तरीके से सतना में जिला रोजगार अधिकारी के पद पर नौकरी कर रहा है।
साढ़े तीन सौ टॉपरों का मुख्यमंत्री करेंगे सम्मान
27 को भोपाल ले जाए जाएंगे छात्र
सतना (मारुति एक्सप्रेस)।
माध्यमिक शिक्षा मंडल की हायर सेकेण्डरी और हाई स्कूल परीक्षा में टॉप करने वाले जिले के 356 छात्र-छात्राओं को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 28 जून को भोपाल में सम्मानित करेंगे। जिला शिक्षा विभाग इन छात्रों को 27 जून को बसों में लेकर भोपाल रवाना होगा। उल्लेखनीय है कि रीवा संभाग में सर्वाधिक टॉपर छात्र-छात्राएं सतना जिले से आए हैं।
जिला शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2016-17 की माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा आयोजित की गई हायर सेकेण्ड्री और हाई स्कूल परीक्षा में 356 छात्र -छात्राओं ने 85 फीसदी से ज्यादा अंक हासिल किये। इन सभी छात्र छात्राओं को मुख्यमंत्री लैपटॉप की राशि 25000 रुपए और सम्मान स्वरूप प्रमाण पत्र देकर 28 जून को भोपाल में सम्मानित करेंगे।
कला, बायो,गणित,कृषि,कॉमर्स, में 85 फीसदी से अधिक अंक अर्जित करने वाले 356 छात्र-छात्राओं को भोपाल ले जाने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय द्वारा वाहनों की व्यवस्था की गई है। कल गुरूवार को सभी छात्र-छात्राओं के परिचय पत्र, आधार कार्ड, अंकसूची और बैंक एकाऊंट ऑनलाईन विभाग द्वारा भोपाल भेजे गए।
27 को रवाना होंगे छात्र
शासकीय व्यंकट क्रमांक 1 में सभी टॉपर 356 छात्र-छात्राओं को 27 जून को नौ बजे एकत्र होंगे और वहां से बसों के जरिए 12 बजे भोपाल के लिए रवाना होंगे। छात्र-छात्राओं के साथ विद्यालयों के शिक्षक शिक्षिकाएं और एक नोडल अधिकारी साथ में जाएगा।
संभाग में सतना टॉप पर
हाईस्कूल, हायरसेकेण्ड्री परीक्षा में 85 फीसदी से ऊपर अंक लाने वाले सर्वाधिक छात्र-छात्राएं सतना से हैं। सतना सभाग में पहले नम्बर पर है। दूसरे स्थान पर 312 छात्रों के साथ रीवा फिर सीधी और सिंगरौली के छात्र हैं।
मिलेगी लैपटॉप की राशि
भोपाल जाने वाले टॉपर छात्रों को मुख्यमंत्री द्वारा लैपटॉप के लिए 25000 का एकाऊंट पेई चेक प्रदान किया जाएगा और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा। जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय द्वारा टॉपर छात्रों को भोपाल ले जाने की कार्रवाई को आज अन्तिम रूप दिया गया।
मुलाकातों से फिर मंत्रिमंडल विस्तार को हवा
प्याज  मूंग, उड़द खरीदी संबंधी जानकारी भी शाह को दी सीएम ने
भोपाल. राष्ट:पति पद के लिए नामांकन भरने की प्रक्रिया में हिस्सा लेने कल दिल्ली गए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने तीन केन्द्रीय मंत्रियों समेत भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राष्ट:ीय संगठन महामंत्री रामलाल समेत अनेक नेताओं से भेंट की। सीएम की इस भेंट को किसान आंदोलन और प्रदेश में संभावित मंत्रिमंडल विस्तार से जोड़कर देखा जा रहा है। सीएम ने कल दिल्ली में सबसे पहले केन्द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह और उसके बाद सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गेहलोत से मुलाकात की थी। दोपहर बाद अशोका रोड स्थित भाजपा कार्यालय पहुंचे सीएम ने पार्टी के राष्ट:ीय अध्यक्ष अमित शाह से भेंट की। आधा घंटे तक दोनों नेताओं के बीच एकांत में चर्चा हुई। सूत्रों की माने तो सीएम ने शाह ने सीएम को प्रदेश में हुए किसान आंदोलन के कारणों और आंदोलन में कांग्रेसियों की भूमिका के बारे में बताया। सूत्रों की माने तो सीएम ने शाह को मंत्रिमंडल विस्तार के बारे में चर्चा की। गौरतलब है कि ज्ञान सिंह के इस्तीफे के बाद प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार और मंत्रियों के प्रभार के जिलों में प्रभार की चर्चाए सरगर्म हैं। रामलाल से की मुलाकात: आज सुबह सीएम ने राष्ट:ीय महामंत्री रामलाल से भी मुलाकात की। इसके अलावा उन्होंने प्रदेश संगठन प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे से भी मुलकात की। दोनों संगठन नेताओं से मुलाकात में सीएम ने सरकार के दो जुलाई को होने वाले पौधारोपण अभियान समेत संगठन और सरकार से जुड़े अन्य मसलों पर चर्चा की। इसके पहले उन्होंने कल बीजेपी के राष्ट:ीय उपाध्यक्ष प्रभात झा और मंत्री रामविलास पासवान से भी मुलाकात की थी।
---------



मंत्री नरोत्तम के चुनाव पर रोक, कोर्ट में देंगे चुनौती
कानून विशेषज्ञ की राय, स्टे मिला तो पूरा होगा कार्यकाल
भोपाल, चुनाव आयोग ने आज पेड न्यूज के एक मामले में एक अहम फैसला लेते हुए प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री और दतिया विधायक नरोत्तम मिश्रा पर अगले तीन साल के लिए चुनाव लडऩे पर रोक लगा दी है। कांग्रेस ने इस फैसले के बाद मंत्री नरोत्तम मिश्रा से तत्काल इस्तीफे की मांग की है। इस मामले में मंत्री नरोत्तम ने कहा है कि वे चुनाव आयोग के इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे और अपनी बात कोर्ट के सामने रखेंगे। दरअसल यह मामला 2008 के विधानसभा चुनाव का है, जिसमें नरोत्तम मिश्रा के खिलाफ चुनाव लडऩे वाले राजेंद्र भारती ने यह शिकायत की थी कि पेड न्यूज के जरिए नरोत्तम मिश्रा ने अपनी विधानसभा क्षेत्र में मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास किया था। इस सिलसिले में उनका तर्क था कि उनके पक्ष को नहीं सुना गया है। सारे घटनाक्रम पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव द्वारा इस्तीफा मांगे जाने पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के पास मुद्दे नहीं है, प्रतिदिन इस्तीफा मांगना उनकी राजनीतिक प्रक्रिया का हिस्सा है।
वर्तमान विधानसभा सदस्यता पर कोई दिक्कत नहीं
चुनाव आयोग के इस फैसले से नरोत्तम मिश्रा की वर्तमान विधानसभा सदस्यता पर कोई खतरा नहीं है। वे विधायक बने रहेंगे। इस बारे में कानून विशेषज्ञों का कहना है कि उन्हें हाईकोर्ट से स्टे मिला तो वे वर्तमान विधानसभा का 2018 तक का कार्यकाल पूरा करेंगे। चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक चुनाव आयोग ने अपने फैसले में उनकी वर्तमान सदस्यता को लेकर कोई बात नहीं कही है। सिर्फ अगले तीन साल तक के लिए चुनाव लडऩे पर रोक लगाई है।
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बोले पूरी पार्टी नरोत्तम के साथ
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा के मामले में पूरी पार्टी उनके साथ है। उन्होंने कहा कि अभी फिलहाल फैसले की कॉपी नहीं देखी है, लेकिन उन्होंने यह साफ कहा कि पार्टी मिल बैठकर इस मामले पर चर्चा करेगी। उन्होंने कांग्रेस नेताओं पर हमला करते हुए कहा कि यह भाजपा का मामला है, हम कांग्रेस के हिसाब से नहीं सोचते। पूरी पार्टी नरोत्तम मिश्रा के साथ खड़ी है और इस मामले में कानून विशेषज्ञों से सलाह कर निर्णय लेंगे।
-----------
टिकट पर टोक क्यों? कथा-खेती भी तो करता हूं: मंत्री भार्गव
मंत्री भार्गव बोले मेरे पुश्तैनी काम पर सवाल क्यों
भोपाल. सागर के गढ़ाकोटा स्थित अपनी पुश्तैनी टाकीज में फिल्म के टिकट काटने पर कांग्रेस नेताओं के बयान के जवाब में मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि यह उनका पुश्तैनी काम है, कोई चोरी तो नहीं की है। उन्होंने कहा कि यह टाकीज उनके पिता के जमाने से है और जब वे विपक्ष में विधायक थे तो उन्होंने बीस साल तक टाकीज में टिकट खिड़की पर बैठकर टिकट बेचे। भार्गव ने कहा कि कल नई फिल्म रिलीज हुई थी। संयोग से वे टाकीज पहुंचे वहां टिकट खिड़की पर काफी भीड़ थी और एक ही काउंटर चल रहा था लिहाजा वे दूसरी खिड़की पर बैठकर टिकट काटने लगे। उन्होंने कहा कि टाकीज के व्यवसाय के अलावा वे पंडिताई भी करते हैं। उन्होंने कहा कि अपने पुश्तैनी काम में शर्म कैसी। भार्गव के मुताबिक वे गढ़ाकोटा के नगर पंडित हैं इस लिहाज से वे सत्यनारायण की कथा भी करते हैं। उन्होंने कहा कि वे खेती के काम में भी बराबरी से हिस्सा लेते हैं और पुश्तैनी खेती-किसानी भी करते हैं।
किसानों की मौत से जोडऩा दुर्भावनापूर्ण
भार्गव ने कहा कि हम अपना काम कर रहे हैं, कोई भ्रष्टाचार नहीं कर रहे हैं। हमारे सीएम भी अपनी खेती देखने अपने खेतों पर जाते हैं। कैलाश विजयवर्गीय भी अपनी पुश्तैनी किराने की दुकान पर बैठते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया में इस तरह का दुष्प्रचार किया गया है कि मैं एक आत्महत्या करने वाले किसान परिवार के घर को नजरअंदाज कर अपना काम कर रहा था।
------------

मन की बात में मोदी ने किया इमरजेंसी का जिक्र, पढ़ें 10 बड़ी बातें
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 'मन की बात' जरिए राष्ट्र को संबोधित किया। सुबह 11 बजे हुए इस प्रसारण में मोदी ने जगन्नाथ रथ यात्रा और रमजान का जिक्र किया और लोगों को बधाइयां दी। पढ़ें मोदी की कही बड़ी बातें -
पीएम ने कहा कि मौसम बदल रहा है। इस बार गर्मी भी बहुत रही, लेकिन अच्छा हुआ कि वर्षा ऋतु समय पर अपने नक्शे कदम पर आगे बढ़ रही है। जीवन में कितनी ही आपाधापी हो, तनाव हो, व्यक्तिगत जीवन हो, सार्वजनिक जीवन हो, बारिश का आगमन मन:स्थिति को बदल देता है।
प्रधानमंत्री ने मुबारकपुर के लोगों की तारीफ की, जिन्होंने शौचालय बनाने के लिए दिया गया 17 लाख रुपए का फंड लौटा दिया और अपने प्रयासों से खुले में शौच से मुक्ति पाई।
आपातकाल के 42 साल पूरे होने का जिक्र करते हुए करते हुए पीएम मोदी ने कहा, '25 जून, 1975 की वो काली रात थी जो कई भी लोकतंत्रप्रेमी भुला नहीं सकता है। कोई भारतवासी भुला नहीं सकता। देश को जेलखाने में बदल दिया गया था। विरोधी स्वर को दबोच दिया गया था। जयप्रकाश नारायण सहित देश के गणमान्य नेताओं को जेलों में बंद कर दिया गया था। न्याय व्यवस्था भी आपाताकाल के उस भयावह रूप की छाया से बच नहीं पाई थी। अखबारों को तो पूरी तरह बेकार कर दिया गया था।
इस दौरान मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी की एक कविता भी पढ़ी।
योग दिवस की कामयाबी पर मोदी ने कहा, 21 जून को पूरा देश ही नहीं दुनियाभर में योग हो रहा था। योग अब दुनिया को जोडऩे का जरिया बन गया है।
जगन्नाथ रथ यात्रा के बारे में उन्होंने कहा, भगवान जगन्नाथ गरीबों के स्वामी हैं। ब
मोदी ने बताया कि रोज उन्हें बहुत सारी चि_ियां आती हैं। लोगों से जुड़े रहने के लिए वे चुनिंदा चि_ियां पढ़ते हैं। इसी क्रम में उन्होंने तमिलनाडु की एक गृहिणी की एक चि_ी का भी जिक्र किया।
इस चि_ी के माध्यम से मोदी ने लोगों को भारत सरकार की गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस योजना का जिक्र किया। द्धह्लह्लश्चह्य://द्दद्गद्व.द्दश1.द्बठ्ठ पर इसकी सारी जानकारी उपलब्ध है। यहां लोग अपनी बनाई चीजें सरकार को बेच सकते हैं।
मोदी ने कहा, खादी का रुमाल दे कर स्वागत करते हैं, तो कितने गरीब लोगों को मदद मिलती है। खर्चा कम हो जाता है और सही रूप से उसका उपयोग भी होता है। मैं जब गुजरात का मुख्यमंत्री था, तो मैंने परंपरा बनाई थी कि हम बुके नहीं बुक देंगे या खादी के रूमाल से स्वागत करेंगे।
अभी दो दिन पहले इसरो ने कॉर्टोसेट सैटेलाइट के साथ 30 नैनोसैटेलाइट लॉन्च किए। भारत के नैनोसैटेलाइट अभियान से खेती-किसानी के काम में, प्राकृतिक आपदा के संबंध में काफी कुछ हमें मदद मिलेगी।
------------

मोदी को ट्रंप ने बताया सच्चा दोस्त, 26 को व्हाइट हाउस में होगी मुलाकात
वॉशिंगटन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार सुबह वॉशिंगटन पहुंच गए। सोमवार को व्हाइट हाउस में उनकी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात होगी। यह पीएम मोदी और राष्?ट्रपति ट्रंप की पहली मुलाकात है। हालांकि इससे पहले फोन पर दोनों कई बार बात कर चुके हैं। मोदी के अमेरिकी जमीं पर कदम रखने से ठीक पहले ट्रंप ने एक ट्वीट कर उन्हें अपना सच्चा दोस्त बताया। इससे माना जा रहा है कि यह यात्रा दोनों नेताओं के लिए बेहद अहम है। प्रधानमंत्री जैसे ही अमेरिका पहुंचे, मोदी-मोदी के नारों से उनका स्वागत किया गया। इसके बाद उनका काफिला होटल के लिए रवाना हो गया। अमेरिकी समयानुसार आज की रात वे होटल में ही गुजारेंगे और कल दिन भर उनके कार्यक्रम है। सोमवार को मोदी पांच घंटे व्हाइट हाउस में रहेंगे। मोदी की सुरक्षा के लिए पुख्ता बंदोस्त किए गए हैं। टीवी चैनलों के मुताबिक, जिस स्तर की सुरक्षा अमेरिका में राष्ट्रपति को दी जाती है, वैसी ही सुरक्षा मोदी को दी गई है।
यह है सोमवार का कार्यक्रम
सोमवार को 3:30 बजे (भारतीय समयानुसार मंगलवार सुबह 1 बजे) दोनों नेताओं के बीच मुलाकात होगी। इसके बाद मीडिया के साथ एक संक्षिप्त फोटो-ओप होगा और फिर वे प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता के लिए प्रस्?थान करेंगे। वार्ता के बाद एक कॉकटेल रिसेप्शन होगी। व्?हाइट हाउस में डिनर के साथ मोदी और ट्रंप की इस पहली मुलाकात पूरी होगी। ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद मोदी पहले ऐसे प्रधानमंत्री हैं जो व्हाइट हाउस में ट्रंप से मुलाकात करेंगे।'
ये मुद्दें रहेंगे चर्चा में
पीएम मोदी का यह दौरा उस समय आया है, जब अमेरिका और भारत के बीच जलवायु परिवर्तन, एचवनबी वीजा, व्यापार और निवेश समेत कई मुद्दों पर मतभेद हैं। लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि पीएम मोदी की इस अमेरिकी यात्रा से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में विस्?तार होगा।
--------------

                 Image..                         Open a new window
Top News
 
टिकट बुक करा चुके यात्रियों को देनी होगी अतिरिक्त राशि
 
मंत्री नरोत्तम के चुनाव पर रोक, कोर्ट में देंगे चुनौती
 
सलमान को कॉमीडियन नहीं लगते सुनील ग्रोवर
 
संभाग से ख़बरें
Bhopal
117.204.192.5A25978tikat.jpgभोपाल। पहले ही टारगेट और स्टाफ की कमी से जूझ रहे रेलवे के टिकट चेकिंग स्टाफ की जिम्मेदारी जीएसटी लागू होने के बाद और बढऩे वाली है। स्टाफ को एसी और फस्र्ट
Satna
117.204.192.5A81583nahar.JPGसतना (मारुति एक्सप्रेस)।
कोलगवां पुलिस ने नाहर नर्सिंग होम के एक्सरे मशीन टेक्नीशियन विकास विश्वकर्मा पुत्र मोतीलाल विश्वकर्मा (25 वर्ष) निवासी टिकुरि
Rewa
117.204.192.5A70925rewa.jpgरीवा (मारुति एक्सप्रेस)
सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत वदरांव स्थित शिल्पी ग्रीन सिटी के पास हुए दर्दनाक सड़क हादसे में 2 लोगों की मौत हो गई वही तीन अ
 
Jabalpur
117.204.192.5A17619jabalpur.jpgजबलपुर। दो जुलाई को प्रदेशभर में 5 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य तो रखा ही गया है। इसके अलावा पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा से
Indore
117.204.192.5A21777indor.jpgइंदौर। लसूडिय़ा पुलिस ने एक युवती की शिकायत पर उसके प्रेमी के खिलाफ ज्यादती का केस दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक स्कीम-114 में रहने वाली 27 वर्षीय युवती ने
Sagar
117.204.192.5A60198sagar.jpgजिले के विकास के लिए समन्वय से कार्य करने के दिए निर्देश
सागर. नवागत कलेक्टर श्री आलोक कुमार सिंह ने अपना कार्यभार ग्रहण करने के पश्चात कलेक्ट्रेट सभाक
खेल मनोरंजन फिल्म
भारत ने हॉकी में पाकिस्तान को फिर रौंदा, 6-1 से दर्ज की जीत
पंछियों की तरह हवा में उडऩा चाहते हैं तो ट्राय करें
सलमान को कॉमीडियन नहीं लगते सुनील ग्रोवर
Photo Albums
NO Photo available in this Album!!
 
विज्ञापन
Market Watch
Hot Pictures of the Day
 
 Yes
 No
 Cannot say
 
News paper PDF